कंप्यूटर वायरस क्या है? (What is computer virus in Hindi)

दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपको जानकारी देने वाले है कंप्यूटर वायरस और इसके प्रकार के बारे में. हमने पूरी कोशिश की है कि आपको सरल से सरल भाषा में आर्टिकल “कंप्यूटर वायरस क्या है? (What is computer virus in Hindi)“में जानकारी मुहैया कराए.

अगर आप कंप्यूटर का उपयोग करते हो तो जरुर आप कंप्यूटर virus नाम से वाफिक होंगे. और हो सकता है कि आपने कंप्यूटर virus के प्रभावों को अनुभव भी किया हो. इस आर्टिकल में हम जानने वाले है कि आख़िरकार कंप्यूटर वायरस क्या होते है. और ये हमारे कंप्यूटर और मोबाइल में कैसे फैलते है. कंप्यूटर virus कितने प्रकार के होते है.

कंप्यूटर virus को हम टेक्निकली देखे तो एक प्रोग्राम ही है. जिसमे दुर्भाग्यपूर्ण code लिखे होते है. जिनका मकसद हमारे कंप्यूटर के operating सिस्टम और डाटा  को नष्ट करना और जितना हो सके उतनी क्षति पहुँचाना होता है.

कंप्यूटर वायरस क्या है? (What is computer virus in Hindi)

जैसे कंप्यूटर प्रोग्राम को इंसानों के द्वारा बनाया गया है. उसी प्रकार से कंप्यूटर virus भी कुछ मंद्बुदी इंसानों के द्वारा ही बनाए गए है. और इसको virus इस लिये कहा जाता है क्योंकि ये बीमारी के virus की तरह ही एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में फैलता है.

कंप्यूटर वायरस कैसे फैलता है? (How computer virus spreads)

हम सब internet के दौर में जीवन यापन कर रहे है. हमारा कंप्यूटर पूरे दिन internet से जुड़ा हुआ होता है. internet के द्वारा ही हमारे कंप्यूटर दुनिया के करोड़ो कंप्यूटर से जुड़ा हुआ होता है. इस कारण हमारे कंप्यूटर में पूरे दिन data कही स्रोत से आता और जाता रहता है. जैसे मेल आते जाते रहते है, social media पर पोस्ट आते जाते रहते है इत्यादि.

जब भी कभी किसी अविश्वनीय स्रोत से हमारे कंप्यूटर में data आता है. जैसे हमे किसी अविश्वनीय स्रोत से मेल आता है. और उस मेल में कोई डॉक्यूमेंट attach (जुड़ा) होता है. जैसे ही हम उस attachment को खोलते है. virus भी उसी क्षण हमारे कंप्यूटर में आ जाता है.

जिस प्रकार बीमारी के virus को फैलने के लिये स्रोत की जरूरत होती है. उसी प्रकार से कंप्यूटर virus को आपके पास आने के लिये किसी सॉफ्टवेयर या डॉक्यूमेंट की जरूरत होती है.

कंप्यूटर वायरस फैलने के मुख्य स्रोत क्या है?

कंप्यूटर virus कही स्रोत से आपके कंप्यूटर में आ सकता है. इसमे कुछ मुख्य स्रोत को नीचे बिन्दुओ में समझाया गया है. आपको हमेशा internet पर सावधान रहने की जरूरत होती है. ताकि आपका कंप्यूटर सुरक्षित रहे.

अविश्वनीय स्रोत

जब भी कभी आप किसी अविश्वनीय स्रोत से डॉक्यूमेंट या सॉफ्टवेयर अपने कंप्यूटर में इनस्टॉल (Install) करते है. ये virus भी उनके साथ आपके कंप्यूटर में आ जाता है.

फ्लॉपी और पेन ड्राइव

कंप्यूटर virus बाहरी स्रोत जैसे फ्लॉपी या पेन ड्राइव से भी आपके कंप्यूटर में आ जाता है. फ्लॉपी में virus को सक्रिय करने का code हो सकता है. जैसे ही आप फ्लॉपी अपने कंप्यूटर से जुड़ते हो. ये virus भी सक्रिय हो जाता है.

social media पोस्ट और मैसेज 

social media भी कंप्यूटर virus को फैलाने का मुख्य स्रोत है. आपने अनुभव किया होगा कि कही बार आपके अकाउंट से बहुत सारे मैसेज खुद ही चले जाते है. ये virus की ही देन होती है. कही बार social media पर पोस्ट और मैसेज के पीछे virus होता है. जैसे आप उसे पढते या खोलते हो. उसी समय पीछे से virus भी सक्रिय हो जाता है.

अविश्वनीय सॉफ्टवेर

आप अपने बहुत सारे निजी काम कंप्यूटर के जरिये करते हो. और उन कामो को करने के लिये आपको कही छोटे बड़े सॉफ्टवेयर की जरूरत होती है. आप ये सॉफ्टवेयर बिना किसी ज्यादा जाँच पड़ताल के internet से डाउनलोड कर देते हो या फिर उन सॉफ्टवेयर का crack version डाउनलोड कर देते हो. जैसे PDF converter सॉफ्टवेयर, video converter सॉफ्टवेर, इमेज convertor सॉफ्टवेर इत्यादि.

लेकिन वास्तव में इन सॉफ्टवेयर का मकसद कुछ ओर ही होता है. ये सॉफ्टवेयर आपके कंप्यूटर में आ कर आपके कंप्यूटर को क्षति पहुँचाने का काम करते है. इसलिए सलाह दी जाती है की हमेशा विश्वसनीय स्रोत से ही कुछ भी डाउनलोड करना चाहिए.

कंप्यूटर वायरस के लक्षण क्या है?

अब जब एक बार virus आपके कंप्यूटर में आ जाता है. तो आपको पता कैसे चलेगा की virus आपके कंप्यूटर में आ चुका है. doctor भी आपके बीमारी का इलाज तभी करता है जब पता चलता है की आपको बीमारी क्या हुई है. नीचे दिए गए बिन्दुओ में से अगर एक भी घटना आपके कंप्यूटर के साथ घटित होती है. कृपया सावधान हो जाइये हो सकता है आपका कंप्यूटर virus से संक्रमित हो.

सतर्कता

जब भी कभी आप internet पर अविश्वनीय website देखते है. तो आपके कंप्यूटर में रखा Antivirus आपको उस website के ख़तरों के बारे में चेतावनी देता है. उस समय आपको सतर्क रहने की जरूरत होती है. ऐसी website से दूर रहे.

Antivirus के लिये pop up

कही बार virus एक ही बार में आपके कंप्यूटर पर हमला नही करता है. लेकिन कही बार धीरे धीरे आपके कंप्यूटर को क्षति पहुँचाता है. इसी बीच आपके कंप्यूटर का operating system आपको Antivirus को इनस्टॉल करने के सन्देश ( pop up) देता रहता है. जिस पर ध्यान देना आपके कंप्यूटर के स्वास्थ्य के लिये अच्छा रहता है.

Homepage बदलना

आपके कंप्यूटर का homepage खुद ही बदल जाए और अगर आप उसे reset नही कर पा रहे हो तो पूरी संभावना है की आपका कंप्यूटर virus से संक्रमित है.

बड़ी मात्रा में मेल

अगर आपके ईमेल खातों या social media खातों से खुद ही बहुत सारी मात्रा से संदेश और मेल जा रहे है. तो आपके मेल अकाउंट का नियंत्रण अपराधियों के पास है. आपका कंप्यूटर virus से ग्रसित है.

कंप्यूटर बार बार बंद होना

virus आपके कंप्यूटर में लगी hard disk को पूरी तरह से हानि पहुँचा सकता है. जिससे आपके hard disk में रखे data नष्ट हो सकता है. hard disk क्षति होने से आपका कंप्यूटर बार बार बंद हो सकता. इसका मतलब virus आपके कंप्यूटर में आ चुका है.

कंप्यूटर का प्रदर्शन धीमा

अगर अचानक आपके कंप्यूटर की गति धीमी हो जाती है. तो पूरी संभावना है कि virus आपके कंप्यूटर में आ चुका है.

अनजाने सॉफ्टवेयर

virus के होने की पूरी संभावना बनती है. अगर कही अनजान सॉफ्टवेयर आपके कंप्यूटर में अचानक से चलने लग जाते है.

Password बदल जाना

virus आपके कंप्यूटर का password बदल सकता है. और आपके कंप्यूटर का नियंत्रण अपने हाथ में ले सकता है.

ऊपर दिए गए कोई भी बिंदु आपके साथ घटता है. तो आपको सतर्क रहने की जरूरत है. आपको अपने कंप्यूटर को virus से बचाने की जरूरत है.

कंप्यूटर वायरस कैसे काम करता है?

कंप्यूटर virus आपके कंप्यूटर में पहुचने के बाद दो तरीकों से काम करना शुरू करते है.

पहला तरीका

जैसे ही virus आपके कंप्यूटर में आता है. उसी क्षण आपके कंप्यूटर को हानि पहुंचाएगा और आपके  network में बाकि सभी कंप्यूटर में फैल जाएगा.

दूसरा तरीका

virus इंतजार करेगा जब तक की जिस माध्यम से virus आया है. जैसे अगर attach डॉक्यूमेंट में या किसी सॉफ्टवेयर से आया है. तो उसके कार्यान्वित होने का. और जैसे ही वो सॉफ्टवेयर या डॉक्यूमेंट कार्यान्वित होता है. virus आपके कंप्यूटर में सक्रिय हो जाएगा.

धीरे धीरे virus आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन पर असर डालना शुरू करता है. बाद में आपके कंप्यूटर के operating सिस्टम में पहुँच कर. coding को ही क्षति पहुँचा सकता है.

कही ऐसे virus भी होते है जो आपके कंप्यूटर में रखे antivirus को भी चकमा से सकते है.

कंप्यूटर वायरस के प्रकार

कंप्यूटर में पहुचने के बाद virus अपने आप खुद को दोहराते रहते है. जिस कारण अगर कोई एक virus किसी स्रोत से कंप्यूटर में आया है. तो वह कंप्यूटर के अन्दर आ कर कही गुना बढ़ जाता है.

कंप्यूटर virus विभिन्न तरीको से कंप्यूटर को क्षति पहुचाते है. उसी आधार पर कंप्यूटर virus को भी विभिन्न भागो में बाटा गया है. जो इस प्रकार से है:

Boot Sector virus

जब आप अपने कंप्यूटर को चालू कर रहे होते हो तब इस प्रकार के virus सक्रिय हो जाते है. ये virus बाहरी data स्रोत जैसे पेन ड्राइव और फ्लॉपी से कंप्यूटर में आते है.

Boot सेक्टर virus से निदान पाने के लिये कंप्यूटर को बहुत बार format करने की जरूरत होते है.

Direct Action virus

इस प्रकार के virus किसी विशेष file या सॉफ्टवेयर के साथ आपके कंप्यूटर में आ जाते है. और आपके कंप्यूटर में उस सॉफ्टवेयर या फाइल के साथ मैमोरी में जा के बैठ जाते है. ये आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन पर भी कोई असर नही डालते है.

लेकिन जब आप उस विशेष फाइल या सॉफ्टवेयर का उपयोग करते हो तो उसी क्षण ये virus आपके कंप्यूटर में सक्रिय हो जाते है.

Resident virus

इस प्रकार के virus को आपके कंप्यूटर में खोज के निकलना काफी कठिन होता है. ये virus आपके कंप्यूटर की memory में छिपा रहता है. और कभी भी सक्रिय हो सकता है. मुख्यत जब operating सिस्टम लोड हो रहा होता है. तब ये virus सक्रिय हो जाता है.

Multipartite virus

Multipartite virus प्रकार के virus को फैलाने के बहुत से जरिये होते है. और ये कंप्यूटर के चालू और सक्रिय प्रदर्शन दोनों पर असर डालते है.

Polymorphic Virus

antivirus द्वारा इस प्रकार के virus को पहचानने में बहुत मुश्किल होती है. क्योंकि ये virus जब भी अपने आप को दोहराता है. तो उसका संरचना (Pattern) बदल जाती है.

Overwrite virus

इस प्रकार के virus जिस सभी फाइल्स और डॉक्यूमेंट को संक्रमित करती है उन सब फाइल्स और डॉक्यूमेंट को मिटा देता है. इस प्रकार के virus को पहचानना मुश्किल होता है. और इस virus को खत्म करने का एक रास्ता होता है. की virus से संक्रमित फाइल को मिटा दिया जाए. जिससे किसी भी उपयोगकर्ता को भारी क्षति होती है.

File Infector virus

File infector virus कुछ प्रोग्राम फाइल जैसे .com और .exe के साथ आ जाता है. और जब भी ये विशेष प्रोग्राम सक्रिय होता है. इन प्रोग्राम फाइल के code के साथ virus में उपस्थित गलत code भी सक्रिय हो जाते है. जो कंप्यूटर को क्षति पहुँचाते है.

Macro viruses

इस प्रकार के virus जैसे नाम से पता चल रहा है की macro language को लक्ष्य बनाते है. Macro language में किसी विशेष वस्तु को करने का एक एक (step by step) कर के अनुक्रम (sequence) में क्रिया लिखी होती है. Microsoft वर्ड में macro की सुविधा है.

जब कभी macro को क्रियान्वित किया जाता है. Macro virus में उपस्थित code भी macro के अनुक्रम (sequence) में शामिल हो जाते है. और macro language को क्षति पहुँचाते है.

Microsoft कंपनी अपने microsoft वर्ड के नए संपादन में macro virus का निदान कर चुकी है और macro के function की सुरक्षा पर ध्यान दिया है.

Rootkit viruses

Rootkit virus भी antivirus को चकमा दे कर. कंप्यूटर में स्थापित हो जाता है. और ये virus बहुत खतरनाक होता है. ये virus अपराधी तत्व को सीधे आपके कंप्यूटर का नियंत्रण दे देता है. जिससे अपराधी बुद्धि आपके कंप्यूटर और data के साथ कुछ भी अनैतिक कर सकता है.

Web scripting virus

ये virus web  browser और website के code को हानि पहुँचाता है, साथ में अगर आप ऐसी संक्रमित web browser  या website को अपने कंप्यूटर में खोलते हो तो ये virus आपके कंप्यूटर को भी हानि पहुचा सकता है.

कंप्यूटर वायरस को कंप्यूटर से कैसे निकाले?

आप दो तरीको से अपने कंप्यूटर में virus को निकाल  सकते है. पहला अगर आप कंप्यूटर में माहिर हो तो खुद अपना समय और ज्ञान लगा कर virus को निकाल सकते है. अन्यता दूसरा तरीका आप अपने कंप्यूटर में एक अच्छा antivirus रखे. जो कभी भी कुछ असामान्य होने पर आपको चेतावनी देता रहेगा.

कोई भी तरीका उपयोग में लाओ लेकिन सबसे पहले आपको अपने कंप्यूटर के स्वास्थ्य के लिये जागरूक रहना होगा. यही हमारा मकसद है. इस आर्टिकल को लिखने के पीछे. आपको ये बताना कि कैसे अनैतिक तत्व आपके कंप्यूटर को हानि पहुँचा सकते है. और हमे हर वक्त सतर्क रहने की जरूरत है.

दोस्तों हमारी पूरी कोशिश रहती है कि हम आप तक संपूर्ण जानकारी बिल्कुल आसान भाषा में ले के आए. जिससे आपकी पढने में रूचि बनी रहे. मैं उम्मीद करता हुं आपको ये आर्टिकल पढने में मज़ा आया होगा.

दोस्तों अगर आपको ये कंप्यूटर वायरस क्या है? (What is computer virus in Hindi)” आर्टिकल अच्छा लगा है. तो इसे अपने उन सब दोस्तों के पास पहुँचाए जो Competition Exam की तैयारी कर रहे है. नीचे Comment लिख कर बताए. आपको किस Topic पर आसान  भाषा में जानकारी चाहिए. कृपया इसको अपने दोस्तों के साथ Whatapp, Facebook या link share करे.

2 thoughts on “कंप्यूटर वायरस क्या है? (What is computer virus in Hindi)”

Leave a Comment