माउस के प्रकार, कार्य, पूरा नाम सम्पूर्ण जानकारी

हम कंप्यूटर पर दैनिक जीवन से जुड़े बहुत सारे काम संपन्न करते है. और प्रत्येक काम के लिए माउस का उपयोग जरुर करते है. माउस के बिना हमारे लिए कंप्यूटर में काम करना बहुत कठिन है. पहले के समय में जब माउस का आविष्कार नही हुआ था. तब सिर्फ कीबोर्ड से ही कंप्यूटर को निर्देश दिए जाते थे. माउस के आविष्कार से कंप्यूटर में काम करने में सहूलियत बढती गई. इस आर्टिकल माउस क्या होता है! माउस कितने प्रकार के होते है? में हम आपको बताने वाले है. कि माउस क्या है? तथा इससे जुड़े कुछ ऐसे तथ्य के बारे में भी जानेगी जिनको जानना आपके लिए अतिआवश्यक है.

इसके साथ ही हम इस आर्टिकल में विभिन्न माउस के प्रकार के साथ ये कैसे काम करते है. ये भी जानेगे.

माउस क्या होता है? (What is mouse in hindi)

माउस एक कंप्यूटर इनपुट उपकरण है. जिसे आप अपने हाथों से किसी समतल प्रष्ठ पर चला कर इस्तेमाल कर सकते हो. माउस आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर कर्सर (cursor) को नियंत्रित करता है. जिससे आप कंप्यूटर पर  कोई भी कार्य कर सकते हो. माउस का उपयोग आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर किसी फाइल, दस्तावेज़, तस्वीर को सेलेक्ट करने के लिए किया जाता है. 

माउस का नाम माउस इसके आकार के कारण रखा गया है. ये आकार में छोटा और गोल एक चूहे के जैसा दीखता है. इसीलिए इसे माउस नाम दिया गया है. माउस को कंप्यूटर से वायर से जोड़ा जाता है. जिसे माउस टेल भी कहते है.

माउस का आविष्कार किसने किया?

सबसे पहले सन 1963 में Douglas Engelbart ने इसका आविष्कार Xerox Parc कंपनी के लिए किया था. जिसमे बाहरी कवच लकड़े का बना था. तथा इसमें सर्किट बोर्ड और दो चक्र का उपयोग किया गया था. लेकिन ज़ेरॉक्स कंपनी के Alto कंप्यूटर इतना सफल नही होने कारण से ये माउस भी सफल नही रहा था.

इसके 8 साल बाद सन 1972 में Bill English में माउस की डिज़ाइन को सुधार करते हुए वो माउस विकसित किया जिसका उपयोग हम आज करते है. जिसे ball mouse के नाम से भी जाना जाता है.

माउस का पूरा नाम क्या है?

Douglas Engelbart ने माउस को विकसित करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई थी. Douglas Engelbart ने इस उपकरण का नाम माउस रखा था. क्योंकि ये चूहे के जैसे दीखता है.

ऐसे माउस का पूरा नाम manually-operated user-select equipment होता है.

माउस को किस हाथ से उपयोग करना चाहिए?

सामान्य माउस को दाहिने हाथ से उपयोग करने के लिए बनाया जाता है. फिर भी आप बाए हाथ से काम करते है. तो इसके लिए आपको कंप्यूटर में जाकर इसकी सेटिंग को परिवर्तित करना होता है.

माउस के कार्य

माउस कंप्यूटर का महत्वपूर्ण अंग है. आपके लिए कंप्यूटर पर माउस के बिना कार्य करना बहुत कठिन हो सकता है. क्योंकि माउस हमे कार्य करने की सहुलियत देता है. इसी प्रकार माउस कंप्यूटर में विभिन्न कार्य को संपन्न करता है. जो इस प्रकार से है.

  • माउस की सहायता से आप कंप्यूटर की स्क्रीन पर कर्सर को किसी भी दिशा में घूमा सकते हो.
  • इसकी सहायता से आप कंप्यूटर में किसी भी फाइल, तस्वीर या दस्तावेज़ को सेलेक्ट कर सकते हो.
  • माउस से किसी भी फाइल और दस्तावेज़ को दो बार क्लिक कर के खोल सकते हो.
  • जब भी आप कोई वेबपेज या बड़ा दस्तावेज़ देख या पढ़ रहे होते है. तो माउस का उपयोग करके आप अपने जरूरत के अनुसार ऊपर से नीचे या नीचे से ऊपर कर सकते है.
  • माउस का उपयोग आप विभिन्त्त कंप्यूटर खेल को खेलने के लिए भी कर सकते हो.
  • माउस का उपयोग आप ड्रैग और ड्राप फंक्शन के लिए भी कर सकते हो. इसके लिए आप को पहले किसी फाइल को सेलेक्ट करना होता है. तथा माउस को दिशा देकर उस फाइल को आप अपने अनुसार किसी भी जगह ले के जा सकते हो.
  • माउस के दाहिने बटन का उपयोग आप राईट मेनू को खोलने के लिए कर सकते है. जिससे विभन्न कार्य जैसे कॉपी, पेस्ट या सेव कर सकते हो.

माउस के हिस्से

एक माउस में विभिन्न हार्डवेयर उपकरण लगे होते है. जो माउस के उपयोग करने के लिए प्रभावी और आसान बनाते है.

बटन (buttons)

आज कल के माउस में सामान्य रूप से दो बटन लगे होते है. जो कंप्यूटर को इनपुट देने के लिए उपयोग किये जाते है. माउस के इस बटन को लेफ्ट बटन और राईट बटन कहा जाता है. इससे पहले माउस में सिर्फ एक ही बटन होता था. यूज़र माउस के बटन को दबा कर कंप्यूटर की विभिन्न कार्य करने के निर्देश दे सकता है. 

जैसे आप माउस के लेफ्ट बटन को एक बार दबा कर किसी भी फाइल को सेलेक्ट कर सकते हो. वही दो बार दबा कर किसी फाइल को खोल सकते हो.

बॉल, लेज़र और LED

जब भी आप माउस को किसी समतल प्रष्ठ पर चलाते हो. तो कंप्यूटर स्क्रीन पर cursor भी साथ में घूमता है. ये माउस में लगी बॉल के कारण होता है. मैकेनिकल माउस में एक रबर की बॉल  लगी होती है. वही आज कल ऑप्टिकल माउस बॉल के स्थान पर LED या लेज़र लगा होता है. जो cursor को X और Y दिशा में निर्देशित करता है.

सर्किट बोर्ड (circuit board)

सर्किट बोर्ड एक इलेक्ट्रॉनिक चिप होती है. जिसमे अर्धचालक, रजिस्टर और भी छोटे छोटे उपकरण लगे होते है. ये माउस के बटन और बॉल से प्राप्त इनपुट को इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल में परिवर्तित करता है. जब भी आप माउस के बटन को दबाते है. तो सर्किट बोर्ड इस गतिविधि को एक इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल में बदल देता है. जिसे कंप्यूटर को एक इनपुट मिलता है.

माउस व्हील (mouse wheel)

ये माउस में दोनों बटन के बिच में लगा होता है. जो सामान्य माउस में देखने को मिल जाता है. इसका उपयोग किसी वेबपेज या दस्तावेज को ऊपर से नीचे या नीचे से ऊपर करने में होता है.

केबल/वायरलेस रिसीवर (cable/wireless receiver)

किसी भी माउस को कंप्यूटर से वायर के द्वारा जोड़ा जाता है. लेकिन आज कल वायरलेस माउस भी उपलब्ध है. जो ब्लूटूथ से कंप्यूटर से जोड़े जाते है. इसके लिए एक वायरलेस रिसीवर या अडेप्टर कंप्यूटर में सिग्नल को प्राप्त करने के लिए लगाना होता है.

माइक्रोप्रोसेसर (microprocessor)

ये माउस का दिमाग होता है. तथा ये सर्किट बोर्ड का एक भांग होता है. कोई भी माउस इसके बिना काम नही कर सकता है.

इसके अलावा भी बहुत से ऐसे उपकरण होते है. जो माउस में लगाए जाते है. जैसे लैपटॉप के माउस में touch pad लगा होता है. इसके अलावा विभिन्न बटन विशेष कार्य के लिए भी माउस में लगाए जाते है.

माउस कितने प्रकार के होते है?

कंप्यूटर के लिए USB माउस का उपयोग किया जाता है. वही आपके लैपटॉप में touch pad माउस का उपयोग किया जाता है. इस प्रकार से विभिन्न प्रकार के माउस का उपयोग विभिन्न जरुरतो के हिसाब से होता है. माउस के प्रकार को नीचे विस्तार से दिया गया है.

मैकेनिकल माउस (mechanical mouse) क्या है?

इस प्रकार के माउस को बॉल माउस भी कहा जाता है. इसमें एक रबर की बॉल होती है. तथा सेंसर लगा होता है. जब भी रबर की बॉल को किसी समतल प्रष्ठ पर घुमाया जाता है. तो ये सेंसर उस बॉल की दिशा को इनपुट लेकर कर कंप्यूटर को देता है. जिससे कंप्यूटर के स्क्रीन में कर्सर भी उसी दिशा में साथ घूमता है. 1980 के बाद से इस प्रकार के माउस का उपयोग ज्यादा बढ़ता गया.

ऑप्टिकल माउस (optical mouse) क्या है?

ऑप्टिकल माउस को वायर के द्वारा कंप्यूटर से जोड़ा जाता है. तथा ये वायरलेस भी हो सकते है. इन माउस में रबर बॉल की जगह पर LED या लेज़र होता है. ये लगभग सारे प्रष्ठ पर कार्य करता है. इसमें एक छोटा सा कैमरा लगा रहता है. ये एक सेकंड में 1500 से भी ज्यादा प्रष्ठ के फोटो लेता है. तथा इन फोटो एक CMOS (complementary metal-oxide-semiconductor) सेंसर के द्वारा डिजिटल सिग्नल प्रोसेसर (Digital signal processor (DSP)) को परखने के लिए भेजा जाती है.

जैसे ही माउस को गति दी जाती है. वैसे ही फोटो में बदलाव आता रहा है. जिसे डिजिटल सिग्नल प्रोसेसर के द्वारा अध्ययन किया जाता है. उसी प्रकार से cursor के स्थिति में भी बदलाव आता रहता है.

19 अप्रैल 1999 में माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के द्वारा सर्वपथम ऑप्टिकल माउस परिचय कराया गया था.  

जॉयस्टिक (Joystick) क्या है?

Joystick एक कंप्यूटर इनपुट उपकरण है. जिसे कंप्यूटर के साथ मशीन को भी नियंत्रित करने के लिए उपयोग में लिया जाता है. ये सारे दिशाओ में कार्य करता है. लेकिन माउस और जॉयस्टिक में एक असमानता ये होती है. की अगर जॉयस्टिक को किसी दिशा में छोड़ दिया जाता है. तो ये उस दिशा में लगातार काम करते रहता है. लेकिन माउस के cursor को कंप्यूटर स्क्रीन पर कही छोड़ दिया जाता है. तो वो वही रुक जाता है.

जॉयस्टिक को किसी दिशा से रोकने के लिए जॉयस्टिक को वापस से उसी स्थिति में लाना पड़ता है. सामान्य किसी भी जॉयस्टिक में दो बटन होते है. जिन्हें ट्रिगर कहा जाता है. जॉयस्टिक वायर तथा वायरलेस भी हो सकती है.

Cordless (wireless) mouse क्या है?

सन 2000 के बाद में इस प्रकार के माउस की लोकप्रियता बढ़ी है. इसके साथ इसका इस्तेमाल भी बढ़ा है. ये कंप्यूटर इनपुट उपकरण है. जिसे बिना वायर के कंप्यूटर से जोड़ सकते है. कंप्यूटर को इससे जोड़ने के लिए एक अडेप्टर या USB रिसीवर होता है. जिसे कंप्यूटर से जोड़ना पड़ता है.

इस प्रकार के माउस ब्लूटूथ या रेडिओ फ्रीक्वेंसी तकनीक के द्वारा कंप्यूटर से जुड़ते है. तथा ऐसे माउस में एक बैटरी भी आती है, जिसे समय पर बदलना होता है. अन्यथा माउस काम करना बंद कर देता है. ये बैटरी AAA बैटरी, AA बैटरी या Li-ion हो सकती है.

सन 1984 में सर्वप्रथम cordless माउस का परिचय कराया गया था. जिसका नाम Logitech Metaphor था.

फूट माउस (Footmouse) क्या है?

ये एक प्रकार का कंप्यूटर माउस है. जिससे यूज़र कंप्यूटर के स्क्रीन पर cursor को हाथों की जगह पैरो से घुमा सकता है. जिससे यूज़र हाथों से कीबोर्ड का उपयोग कर सकता है. इस तरह यूजर एक ही साथ कीबोर्ड और माउस का उपयोग एक साथ कर सकता है. इस प्रकार के माउस दिव्यंगो के लिए भी बहुत उपयोगी है.

टचपेड़ (Touchpad) क्या होता है?

ये एक समतल नियंत्रण प्रष्ठ होता है. जिसे trackpad या pressure-sensitive टेबलेट भी कहा जाता है. इस प्रकार के माउस आपको लैपटॉप में देखने को मिलते है. Cursor को कंप्यूटर के स्क्रीन में गति देने के लिए आपको अपनी अंगुली समतल प्रष्ठ पर घिसनी होती है. आप जिस दिशा में अपनी अंगुली लेके जाते हो. कर्सर भी उसी दिशा में आगे बढ़ता है. किसी सामान्य माउस की तरह ही इसमें भी दो बटन होते है. जिसे लेफ्ट (left) और राईट (right) बटन कहा जाता है.

मेरे कुछ शब्द

इस आर्टिकल को लिखने का हमारा उद्देश्य आपको कंप्यूटर के एक महत्वपूर्ण अंग के बारे में विस्तार से बताना है. जिससे अगर आप विधार्थी है. तो ये आपके परीक्षा में आप की सहायता करेगा. और अगर आप कंप्यूटर से जुड़े क्षेत्र में है. तो ये आपके ज्ञान को बढ़ाएगा. हम ने आपको इस आर्टिकल में माउस से जुड़े प्रत्येक वस्तुओ को बतानी की कोशिश की है. जिससे आपको संपूर्ण ज्ञान एक ही जगह पर मिल सके.

हमारी पूरी कोशिश रहती है कि हम आप तक संपूर्ण जानकारी बिल्कुल आसान भाषा में ले के आए. जिससे आपकी पढने में रूचि बनी रहे. मैं उम्मीद करता हुं आपको ये आर्टिकल पढने में मज़ा आया होगा.

अगर आपको ये माउस क्या होता है! माउस कितने प्रकार के होते है? आर्टिकल अच्छा लगा है. तो इसे अपने उन सब दोस्तों के पास पहुँचाए जो Competition Exam की तैयारी कर रहे है. नीचे Comment लिख कर बताए. आपको किस Topic पर आसान  भाषा में जानकारी चाहिए. कृपया इसको अपने दोस्तों के साथ Whatapp, Facebook या link share करे.

1 thought on “माउस के प्रकार, कार्य, पूरा नाम सम्पूर्ण जानकारी”

Leave a Comment