Vachan ke kitne bhed / prakar hote hain – Vachan kise kahate hain

Vachan ke kitne bhed / prakar hote hain – Vachan kise kahate hain -वचन के कितने भेद / प्रकार होते हैं? – वचन किसे कहते हैं? – हिंदी व्याकरण हिंदी भाषा का आधार हैं. हिंदी व्याकरण में हिंदी भाषा को शुध्द रूप से लिखने के नियम दिए गए हैं. इस आर्टिकल में हम हिंदी व्याकरण के एक महत्वपूर्ण पाठ ‘वचन’ के बारे में विस्तार से जानने वाले हैं. साथ में इस आर्टिकल में वचन के भेद या प्रकार के बारे में भी जानेगे. और जानेगे की वचन के कितने प्रकार या भेद होते हैं.

vachan-ke-kitne-bhed-prakar-hote-hain-vachan-kise-kahate-hain-ekvachan-bahuvachan

वचन किसे कहते हैं? (Vachan kise kahate hain)

संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से संख्या का बोध होता हैं. उस रूप को वचन कहा जाता हैं. अथार्त अगर किसी शब्द में संख्या का बोध हो रहा हैं. तो उस शब्द को वचन कहते हैं.

उदाहरण 1: गाड़ी में चार औरते बैठे हैं.

उदाहरण 2: लड़किया गाना गा रही हैं.

उदाहरण 3: कुत्ते भौक रहे हैं.

ऊपर दिए गए तीनो उदाहरानो में औरते, लडकियाँ और कुत्ते शब्द संज्ञा या सर्वनाम की संख्या एक से अधिक होने का बोध करा रहे हैं. अंत ये तीनो शब्द वाक्यों में वचन कहलाते हैं.

karak ke kitne bhed / prakar hote hain – karak kise khate hain

वचन के कितने भेद / प्रकार होते हैं? (Vachan ke kitne bhed / prakar hote hain)

हिंदी व्याकरण के अनुसार वचन दो प्रकार के होते हैं. जो निम्न-अनुसार हैं:

  • एकवचन
  • बहुवचन

एकवचन

संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से उसका एक संख्या में होने का बोध होता हैं. उसे एकवचन कहते हैं.

उदाहरण 1 : राम ने पेन्सिल ख़रीदी.

उदाहरण 1 : रमेश केला खा रहा हैं.

ऊपर दिए वाक्यों में पेन्सिल और केला शब्द यह बोध करा रहा हैं की पेन्सिल और केला की मात्रा वाक्यों में एक हैं. अंत यह दोनों शब्द एकवचन हैं.

बहुवचन

संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से उसका एक से अधिक संख्या में होने का बोध होता हैं. उसे बहुवचन कहते हैं.

उदाहरण 1 : राम ने पेंसिले ख़रीदी.

उदाहरण 1 : रमेश केले खा रहा हैं.

ऊपर दिए वाक्यों में पेंसिले और केले शब्द यह बोध करा रहा हैं की पेंसिले और केले की मात्रा वाक्यों में एक से अधिक हैं. अंत यह दोनों शब्द बहुवचन हैं.

Sangya ke kitne bhed /prakar hote hain – Sangya kise kahate hain

वचन से जुड़े कुछ नियम जिसका हमे हिंदी भाषा में ज्ञान होना आवश्यक हैं.

  • किसी बड़े या आदरणीय व्यक्ति के लिए हमेशा बहुवचन का प्रयोग होता हैं.

 उदाहरण: माताजी सो रही हैं.

उदाहरण: नेताजी भाषण दे रहे हैं.

  • द्रव्यवाचक संज्ञा शब्दों के लिए हमेशा एकवचन का प्रयोग किया जाता हैं. जैसे: घी, दूध, तेल आदी.
  • कुछ शब्द ऐसे भी होते हैं. जिन्हें हमेशा बहुवचन में प्रयोग किया जाता हैं. जैसे आशीर्वाद, दर्शक, भाग्यकेश इत्यादि.
  • समूहवाचक संज्ञा शब्दों को हमेशा एकवचन में प्रयोग होता हैं. जैसे सेना, टोली, भीड़ इत्यादि.

निष्कर्ष

इस आर्टिकल को लिखने का हमारा उद्देश्य आपको वचन और वचन के भेद या प्रकार के बारे में विस्तार से जानकारी देना हैं. वचन वाक्य में वह शब्द होते हैं. जो वाक्य में संज्ञा या सर्वनाम की मात्रा का बोध कराते हैं. यह आर्टिकल आपके लिए विभिन्न परीक्षा की तैयारी के दृष्टी से महत्वपूर्ण हैं.

आपको ये आर्टिकल कैसा लगा. ये हमे तब पता चलेगा जब आप हमें निचे कमेंट करके बताएगे. इस ज्ञान को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक फैलाए. ज्यादा से ज्यादा लोगो तक वचन और वचन के प्रकार या भेद के सम्बन्धित ज्ञान को पहुचाए. धन्यवाद.

Leave a Comment