गंगा नदी की लंबाई कितनी है | गंगा नदी की गहराई कितनी हैं

गंगा नदी की गहराई कितनी हैं  | ganga nadi ki lambai kitni hai |information about ganga nadi in hindi –    हमारे देश में प्राकृतिक स्रोत जैसे पेड़, नदी, पहाड़, पत्थर इत्यादि को पूजा जाता है. तथा हमारे देश में नदियों को मां का दर्जा दिया गया है. इसी प्रकार से गंगा नदी को प्रत्येक भारतवासी सम्मान और आस्था की नजर से देखता है. इस आर्टिकल में हम गंगा नदी के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे. इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि गंगा नदी की लंबाई कितनी है इसके साथ ही हम गंगा नदी की गहराई के बारे में भी जानेंगे.

ganga-nadi-ki-lambai-gahrai-kitni-hai-bangladesh-me-naam-mahattv-1

गंगा नदी की जानकारी | information about ganga nadi in hindi

गंगा नदी हिंदू धर्म की पवित्र नदी मानी जाती है. यह नदी भारत और बांग्लादेश को मिलाकर 2525 किलोमीटर की लंबी दूरी तय करती हैं. गंगा नदी पूरे भारत में उत्तराखंड के हिमालय से लेकर बंगाल की खाड़ी के सुंदरवन तक विशाल भूभाग को सीचती हैं.

हमारे देश में गंगा नदी सिर्फ प्राकृतिक संपदा ना होकर. प्रत्येक भारतीय की आस्था से भी जुड़ी हुई है. भारत देश में गंगा नदी को मां का दर्जा दिया गया है. इसके साथ ही गंगा नदी हमारे लिए सामाजिक, साहित्य, सांस्कृतिक और आर्थिक दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण है. भारतीय साहित्य और पुराणों में गंगा नदी के सौंदर्य और महत्व का बार-बार वर्णन भी मिलता है. विदेशी साहित्य में भी गंगा नदी के प्रति प्रशंसा और भावनापूर्ण वर्णन मिलता है.

पुराणों की संख्या कितनी हैं | पुराण क्या हैं

गंगा नदी का महत्त्व

विभिन्न प्रकार के जलीय जीवो के लिए यह नदी बहुत महत्वपूर्ण है. इसमें विभिन्न प्रकार की मछलियां और सांप पाए जाते हैं. इसके साथ ही गंगा नदी में मीठे पानी वाली दुर्लभ डॉल्फिन भी पाई जाती है. इस पवित्र नदी के तट पर हिंदू धर्म के विभिन्न और प्राचीन मंदिर स्थित है. गंगा नदी पर बने पुल बांध और परियोजनाएं हमारे देश के बिजली, पानी और कृषि की दृष्टि से अति महत्वपूर्ण है. वैज्ञानिकों के अनुसार गंगा नदी में बैक्टीरियोफेज नामक विषाणु मिलते हैं. जिसके कारण यह नदी इतनी पवित्र हैं. और इस नदी जल इतना शुद्ध है क्योंकि यह विषाणु जीवाणु और अन्य हानिकारक सूक्ष्म जीवों को जीवित नहीं रहने देते हैं.

ganga-nadi-ki-lambai-gahrai-kitni-hai-bangladesh-me-naam-mahattv-2-3

गंगा नदी का उद्गम स्थान

गंगा नदी की सबसे पहली शाखा भागीरथी नदी है. भागीरथी हिमालय के गढ़वाल के गोमुख नामक स्थान पर गंगोत्री से निकलती है. गंगा नदी के उद्गम स्थल की ऊंचाई 3540 मीटर है. गंगोत्री पर गंगा जी को समर्पित एक मंदिर भी स्थित है. जो शहर से 19 किलोमीटर की दूरी और 3812 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है.

श्रवण कुमार के माता पिता का नाम क्या था | श्रवण कुमार की कहानी

गंगा नदी की लंबाई कितनी है | ganga nadi ki lambai kitni hai

गंगा नदी भारत और बांग्लादेश को मिलाकर कुल 2525 किलोमीटर की लंबी दूरी तय करती है.

गंगा नदी की गहराई कितनी हैं?

गंगा नदी की गहराई औसत 33 मीटर हैं. क्योंकि गहराई गंगा नदी के पुरे मार्ग में भिन्न रहती हैं.

हमारे द्वारा आपके ज्ञान को बढ़ाने के लिए निम्न पुस्तके प्रस्तुत है, पुस्तको की तस्वीर पर क्लिक कर के पुस्तके डिस्काउंट के साथ खरीदे:

            

गंगा नदी को बांग्लादेश में किस नाम से जाना जाता है?

गंगा नदी को बांग्लादेश में पद्मा के नाम से जाना जाता है.

पारस पत्थर क्या हैं | पारस पत्थर की पहचान क्या है

गंगा नदी की महत्वपूर्ण जानकारी

गंगा नदी की लंबाई2525 किलोमीटर
गंगा नदी की चौड़ाईऔसत 33 मीटर
गंगा नदी का उद्गम स्थानगंगोत्री
गंगा किन देशो से निकलती हैंभारत, नेपाल, बांग्लादेश

निष्कर्ष

इस आर्टिकल (गंगा नदी की गहराई कितनी हैं  | गंगा नदी की लंबाई कितनी है | ganga nadi ki lambai kitni hai |information about ganga nadi in hindi) को लिखने का हमारा उद्देश्य आपको गंगा नदी के बारे में विस्तार से जानकारी देना हैं. गंगा नदी की कुल लम्बाई 2525 किलोमीटर हैं. वही इसकी गहराई औसत 33 मीटर हैं. गंगा नदी पूरे भारत में उत्तराखंड के हिमालय से लेकर बंगाल की खाड़ी के सुंदरवन तक विशाल भूभाग को सीचती हैं. यह नदी भारत में कृषि, सामाजिक जीवन और आस्था की दृष्टी से अति महत्वपूर्ण हैं.

महानगर क्या हैं | महानगर की संवैधानिक परिभाषा क्या हैं

संथाल विद्रोह का नेता कौन था – संथाल विद्रोह की जानकारी

वन महोत्सव कब मनाया जाता हैं – वन महोत्सव क्यों मनाया जाता हैं

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हैं. यह हमे तभी पता चलेगा जब आप हमे निचे कमेंट करके बताएगे. यह आर्टिकल विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओ की दृष्टी से भी महत्वपूर्ण हैं. इसलिए इस आर्टिकल को उन लोगो और दोस्तों तक पहुचाए जो प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं. क्योंकि ज्ञान बाटने से हमेशा बढ़ता हैं. धन्यवाद.

Leave a Comment

x