पृथ्वीराज चौहान के घोड़े का नाम क्या है – पृथ्वीराज चौहान का इतिहास

पृथ्वीराज चौहान के घोड़े का नाम क्या है – भारतवर्ष में ऐसे अनेक शासक हुए. जिन्होंने अखंड भारत पर शासन किया. इन शासको ने अपने मिट्टी के लोगो को बाहरी आक्रमण से बचाने के लिए अनेक युद्ध किये. इन में से एक प्रमुख शासक पृथ्वीराज चौहान हुए थे. पृथ्वीराज चौहान को एक वीर योध्दा के रूप में इतिहास में याद किये जाते हैं. इस आर्टिकल में हम पृथ्वीराज चौहान के जीवन के बारे में जानेगे. साथ में इस आर्टिकल में हम पृथ्वीराज चौहान के घोड़े का नाम भी जानेगे.

pruthviraj-chauhan-ke-ghode-ka-nam-kya-hain

पृथ्वीराज चौहान का इतिहास

पृथ्वीराज तृतीय चौहान वंश के राजा थे. उनका जन्म वर्तमान के राजस्थान के अजमेर में हुआ था. उनका राज्य आज के राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और दिल्ली तक फैला था. उनके राज्य की राजधानी अजयमेरु (अजमेर) थी. शुरूआती दौर में पृथ्वीराज चौहान ने पड़ोसी हिन्दू राजाओ के साथ युध्द करके विजय हासिल की थी. जिसमे चंदेल राजा परमर्दिदेव के खिलाफ युध्द और विजय मुख्य हैं.

पृथ्वीराज चौहान की तलवार का वजन कितना था

पृथ्वीराज चौहान और मोहम्मद गौरी की बिच कही बार युध्द हुए थे. प्रत्येक युध्द में गौरी को पराजित किया और उसे माफ़ करके छोड़ दिया. अंतिम युद्ध में गौरी पृथ्वीराज चौहान को बंदी बनाकर दिल्ली ले गया. और उनकी आँखे फोड़ दी थी. इसके बाद संभा के अन्दर सभी लोगो के बिच में पृथ्वीराज चौहान ने शब्दभेदी बाण विधा से गौरी की हत्या कर दी थी.

पृथ्वीराज चौहान के घोड़े का नाम क्या है?

पृथ्वीराज चौहान के घोड़े का नाम नत्यरंभा था.

पृथ्वीराज चौहान प्राम्भिक जीवन

pruthviraj-chauhan-ke-ghode-ka-nam-kya-hain-1

पृथ्वीराज चौहान का जन्म 1178 में अजमेर के महाराजा सोमेश्वर के घर हुआ था. इनके माताजी का नाम कपूरी देवी था. पृथ्वीराज चौहान जब 11 साल के थे. तभी उनके पिताजी का स्वर्गवास हो गया था. अंत पृथ्वीराज चौहान को अपनी माता जी के साथ राजगद्दी पर बैठा दिया गया. क्योंकि वह बाल्य अवस्था में थे. उन्होंने बचपन में ही युध्द विधा सिख ली थी. वह शब्दभेदी बाण चलाने में प्रवीन थे.

अकबर का वित्त मंत्री कौन था | Akbar ka vitt mantri kaun tha

पृथ्वीराज चौहान की 13 रानिया थी. लेकिन चौहान और रानी संयोगिता के प्रेम प्रसंग की कहानिया आज भी बहुत प्रसिध्द हैं. पृथ्वीराज चौहान ने संयोगिता को उनके इच्छा के अनुसार स्वंयवर से अपहरण करके लाया था. संयोगिता के पिता का नाम जयचंद्र था. जयचंद्र पृथ्वीराज चौहान से बहुत घृणा करता था. इसी कारण जयचंद्र ने पृथ्वीराज चौहान को स्वयंवर में आमंत्रित नहीं किया था. लेकिन पृथ्वीराज ने संयोगिता का अपहरण करके दिल्ली के गए. और वह दोनों ने शादी कर ली थी.

Ashok kis vansh ka shasak tha – चक्रवर्ती अशोक सम्राट

निष्कर्ष

इस आर्टिकल को लिखने का हमारा उद्देश्य आपको पृथ्वीराज चौहान के बारे में जानकारी देना हैं. इस आर्टिकल में हमने संक्षिप्त में पृथ्वीराज चौहान के प्राम्भिक जीवन और इतिहास को बताया हैं. इनके घोड़े का नाम नत्यरंभा था. भारत भूमि सदैव ऐसे वीर योध्दाओ को स्मरण करती रहेंगी. जिन्होंने ने अपने प्राणों का त्याग कर अपने जन्म भूमि की रक्षा की थी.

Karo ya maro ka nara kisne diya tha | करो या मरो

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हैं. यह हमे तभी पता चलेगा जब आप हमे निचे कमेंट करके बताएगे. यह आर्टिकल विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओ की दृष्टी से भी महत्वपूर्ण हैं. इसलिए इस आर्टिकल को उन लोगो और दोस्तों तक पहुचाए जो प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं. क्योंकि ज्ञान बाटने से हमेशा बढ़ता हैं. धन्यवाद.

1 thought on “पृथ्वीराज चौहान के घोड़े का नाम क्या है – पृथ्वीराज चौहान का इतिहास”

Leave a Comment