सुबह पूजा करने के फायदे और क्रम / पूजा के बाद क्या करना चाहिए

सुबह पूजा करने के फायदे और क्रम / पूजा के बाद क्या करना चाहिए – हम सभी लोग भगवान की पूजा करते हैं. भगवान की पूजा करना बहुत ही महत्वपूर्ण होता हैं. हिंदू सनातन धर्म में भगवान की पूजा करना जरूरी माना गया हैं. इससे भगवान हमारे पर प्रसन्न होते हैं. तथा हमारी मनोकामना पूर्ण करते हैं.

Subah-pooja-krne-ke-fayde-kram-bad-kya-krna-chahie (2)

वैसे तो काफी लोग सुबह और शाम दोनों समय भगवान की पूजा करते हैं. लेकिन भगवान की पूजा करने का सर्वश्रेष्ट समय सुबह का होता हैं. सुबह ब्रह्म मुहूर्त में पूजा करने का कुछ विशेष ही महत्व हैं.

दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से सुबह पूजा करने के फायदे तथा पूजा करने का क्रम बताने वाले हैं. इसके अलावा यह भी बताने वाले है की पूजा के बाद क्या करना चाहिए तथा क्या दोपहर में पूजा करनी चाहिए. इन सभी महत्वपूर्ण जानकारी को पाने के लिए हमारा यह आर्टिकल अंत तक जरुर पढ़े.

तो आइये हम आपको इस बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं.

सुबह पूजा करने के फायदे

सुबह पूजा करने के कुछ फायदे हमने नीचे बताए हैं.

  • मेडिटेशन के लिए सुबह का समय अच्छा होता हैं. कुछ लोग पूजा करते समय थोड़ी देर के लिए ध्यान में बैठते हैं. सुबह के समय में शोर नहीं होता हैं. इसलिए हम पूजा करने के लिए अच्छे से ध्यान लगा सकते हैं.
  • सुबह का वातावरण शुद्ध होता है. इसलिए हम आनंद के साथ भगवान की पूजा कर सकते हैं.
  • पूजा करते समय हम मंत्रो उच्चार आदि करते हैं. सुबह का वातावरण शांत होने के कारण मंत्र जाप आसानी से कर सकते हैं.
  • दिन के समय में हमारा मन इधर-उधर भटकता रहता हैं. लेकिन सुबह के समय हम अपना मन भगवान के प्रति एकाग्र कर सकते हैं. इससे हमारा पूरा ध्यान भगवान की पूजा में रहता हैं.
  • सुबह के समय में व्यर्थ के विचार नहीं आते हैं. इसलिए हम भगवान की पूजा श्रद्धा पूर्वक कर सकते हैं.
  • दिन में हमारा मन अशांत रहता हैं. इसलिए दिन में हम भगवान की पूजा में मन नहीं लगा सकता हैं. इसलिए हमे सुबह के समय में भगवान की पूजा करनी चाहिए.
  • सुबह का वातावरण शांत और शुद्ध होता हैं. ऐसे वातावरण में भगवान की पूजा करने से हमे मानसिक तनाव से मुक्ति मिलती हैं.
  • सुबह के समय में हम अच्छे से पूजा कर पाने की वजह से भगवान हमारी मनोकामना भी जल्दी पूर्ण करते हैं.

गाय कोकेला खिलाने के फायदे / गाय को पालक, गुडहल्दीचुना खिलाने के फायदे

पूजा के बाद क्या करना चाहिए

आमतौर पर भगवान की पूजा करने के बाद भगवान को पुष्प आदि चढाने चाहिए. इसके बाद अगर आप भगवान को किसी वस्तु का भोग या प्रसादी चढ़ा सकते है. तो भगवान को भोग तथा प्रसादी आदि जरुर अर्पित करे. भगवान की पूजा करने के पश्चात भगवान के सामने दो हाथ जोड़कर आपकी मनोकामना पूर्ति की प्रार्थना करे.

एलोवेरा का पौधा घर में लगाना शुभ है या अशुभ | घर में चीकू का पेड़ शुभ या अशुभ

क्या दोपहर में पूजा करनी चाहिए

जी नहीं, दोपहर में पूजा नहीं करनी चाहिए. हमारे हिंदू सनातन धर्म के अनुसार दोपहर 12 बजे से 4 बजे के बीच भगवान की पूजा करना वर्जित माना गया हैं. क्योकि ऐसा माना जाता है. की इस समय भगवान विश्राम कर रहे होते है. तो इस समय पूजा करने से आपकी पूजा भी स्वीकार नहीं होती हैं.

दाई करवटसोने के फायदे और नुकसान | खाना खाने के बाद किस साइड से सोना चाहिए

हमने काफी बड़े-बड़े मंदिर में भी देखा है. की दोपहर के समय में भगवान के पाट बंद कर दिए जाते हैं. तथा दोपहर के समय मनुष्य का मन वैसे भी अन्य विचारों में भटकता रहता हैं. तो दोपहर में पूजा करने का फल वैसे भी नहीं मिलेगा. इसलिए दोपहर में पूजा नहीं करनी चाहिए.

अगर आप सही समय पर भगवान की पूजा करना चाहते है. तो सुबह 5 से 7 बजे के बीच तथा शाम को 6 से 7 बजे के बीच भगवान की पूजा कर सकते हैं. भगवान की पूजा करने का यह सर्वश्रेष्ठ समय हैं.

Subah-pooja-krne-ke-fayde-kram-bad-kya-krna-chahie (3)

पूजा करने का क्रम

पूजा करने का क्रम कुछ इस प्रकार हैं.

आहवान, आसन, अर्घ, आचमन, स्नान, वस्त्र, गंध, पुष्प, अक्षत, धुप, दीप, नैवेघ, आरती, परिक्रमा इस क्रम में भगवान की पूजा करनी चाहिए.

Subah-pooja-krne-ke-fayde-kram-bad-kya-krna-chahie (1)

पुरुष की दाई और बाएं (right/lieft) जांघ पर तिल होने का संकेत जाने

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से सुबह पूजा करने के फायदे तथा पूजा करने का क्रम बताया हैं. इसके अलावा यह भी बताया है की पूजा के बाद क्या करना चाहिए तथा क्या दोपहर में पूजा करनी चाहिए. हम उम्मीद करते है की आज का हमारा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

दोस्तों हम आशा करते है की आपको हमारा यह सुबह पूजा करने के फायदे और क्रम / पूजा के बाद क्या करना चाहिए आर्टिकल अच्छा लगा होगा. धन्यवाद

कान में सोने की बाली पहनने के फायदे जाने | कान छिदवाने का शुभ दिन

सिर पर तिल होने का मतलब | हाथ, नाक, कमर, गलेपर तिल का मतलब

दूसरों की चप्पल पहनने से क्या होता है | नए जूते किस दिन पहना और खरीदनाचाहिए

Leave a Comment

x