What is RAM in Hindi? मोबाइल और कंप्यूटर के लिए कितने RAM की जरूरत होती है?

इस आर्टिकल में हम जानेगे कि RAM क्या है? इसका हमारे मोबाइल और कंप्यूटर में क्या काम होता है? और कितने RAM  की  हमे  वाक्य  में  जरूरत  होती  है. हमने पूरी कोशिश की है कि आपको सरल से सरल भाषा में आर्टिकल RAM मैमोरी क्या है (What is RAM in Hindi)“में जानकारी मुहैया कराए.

जब कभी भी हम नया मोबाइल खरीदने का सोचते है. तो सबसे बड़ा प्रश्न यही हमारे सामने होता है. कि हमे कितनी RAM का मोबाइल  लेना  चाहिए.जिसकी  हमे  वास्तव  में  जरूरत  है. जैसे जैसे RAM की साइज़ बढती है जैसे 2GB, 4GB, 6GB वैसे वैसे ही मोबाइल और कंप्यूटर की लागत भी बढती है.

RAM मैमोरी क्या है? (What is RAM in Hindi?)

RAM का full form Random Access Memory होता  है. RAM memory कंप्यूटर का एक महत्पूर्ण भाग है. ये computer का अस्थायी data store है. जो कि कंप्यूटर के स्थायी data store से कही ज्यादा तेज होता है. कंप्यूटर स्थायी data store कंप्यूटर का ड्राइव या hard disk होता है.

कंप्यूटर में RAM की साइज़ से ही पता चलता है. की आपका कंप्यूटर या मोबाइल कितना तेज है. आपके मोबाइल की RAM से ही ज्ञात होता है कि आप एक समय में कितनी application एक साथ उपयोग कर सकते हो.

RAM की जरूरत क्यों है? (Why is RAM needed?)

जब भी कभी आप अपने मोबाइल या कंप्यूटर में कोई भी application इनस्टॉल (Install) करते है. तो वो application कंप्यूटर के स्थाई memory (hard disk) में जा कर सुरक्षित हो जाती है.

जैसे आपने मोबाइल में Facebook डाउनलोड और इनस्टॉल किया तो Facebook मोबाइल के स्थायी memory में जाके सुरक्षित हो जाएगी .

अब जब भी कभी आप अपने मोबाइल या कंप्यूटर में उस application का उपयोग करते है. तो वह application आपने RAM memory में आ जाती है. क्योंकि आपके द्वारा दिए गए इनपुट को प्रोसेस करना होता है. और प्रोसेस होने के बाद तुरंत ही output दिखाना होता है.

इस पुरे चक्कर के लिये एक ऐसे तेज memory की जरूरत होती है. जो कम समय में ही ये सब कर सके. इसलिए कंप्यूटर में अस्थाई memory RAM लगती है.

RAM में data जब तक ही सुरक्षित होता  है. जब तक की आपका computer चालू हो. एक बार अगर आपने कंप्यूटर को बंद कर दिया तो RAM memory खाली हो जाती है. और आपका data खो जाता है. इसी कारण से जब भी कभी आप computer में किसी application जैसे आप Microsoft वर्ड में typing कर रहे हो. उसे आपको उसे अपने कंप्यूटर की स्थायी memory में सुरक्षित करना होता है.

सुरक्षित किये गए data को आप कभी भी बाद में वापस खोल सकते हो. आपको अपने कंप्यूटर के स्थायी memory में जा कर खोलना होता है. जब भी कभी आप उस फाइल को वापस खोलते हो तो वो फाइल फिर से आपके कंप्यूटर की RAM मैमोरी में आ जाती है. और उस पर आप काम कर सकते है.

हमे वास्तव में कितने RAM की जरूरत होती है?

Application की गुणवत्ता (Quality) बढती जा रही है. हर कोई एक अच्छी application बनाना चाहता है. Application की गुणवत्ता (Quality) बढने के साथ ही उसकी साइज़ भी बढती जाती है. आज कल कम से कम  300 KB की  application तो सामान्य है. इस लिये अगर आप तीन से चार application अपने मोबाइल में एक साथ चलाते हो तो आपके मोबाइल की RAM पूरी हो जाती है.

कंप्यूटर में RAM को बाद में बढ़ा सकते है. लेकिन मोबाइल में आप RAM को नही बढ़ा सकते हो. इसलिए ये सलाह दी जाती है. की जब भी मोबाइल ख़रीदे ज्यादा से ज्यादा RAM अपने बजट के अनुसार ख़रीदे .

2GB RAM

Mobile

 इतनी RAM तो आज कल कम से कम हर एक मोबाइल में आती है. अगर इससे कम RAM वाला मोबाइल आप खरीदते हो तो भविष्य में तकलीफ रह सकती है.

कंप्यूटर और laptop

इतनी RAM आपके कंप्यूटर और laptop के लिये कभी नही लेनी चाहिए. क्योंकि laptop और कंप्यूटर आप multitasking के लिये लेते है. किसी भी ब्राउज़र (browser) आप जितने टैब (tab) खोलते हो हर एक tab के लिये आपको RAM की जरूरत होती है. इतनी  RAM  में  एक  समय  में  एक से ज्यादा काम करना असंभव है.

4GB RAM

Mobile

4GB RAM के साथ आप मोबाइल में कही सारी application एक साथ चला सकते हो. और आपका मोबाइल hang (रुकना) भी नही होता है . लेकिन अगर आपको मोबाइल में game खेलने का शौक है तो आपको इतनी RAM में दिक्कत आ सकती है.

कंप्यूटर और laptop

कंप्यूटर और laptop के लिये इतनी RAM तो अनिवार्य तभी आपका कंप्यूटर खरीदने का फायदा होगा. इतनी RAM में आप अपने कंप्यूटर और laptop में Microsoft ऑफिस और इसके जैसे सॉफ्टवेर उपयोग कर सकते हो. लेकिन अगर आप कुछ heavy काम करना है. जैसे की विडियो एडिटिंग करनी है. तो आपको अपनी computer की RAM बढ़ानी होगी.

 6GB RAM

Mobile 

6GB RAM के मोबाइल आपको बाज़ार में मिलते है. जो की price में 4GB RAM वाले उसी मॉडल में 2 हजार रूपये तक महंगा हो सकता है. लेकिन इतनी RAM को लेने का आपको ये फायदा मिल सकता है कि आप heavy गेम अपने मोबाइल में बिना किसी परेशानी के चला सकते हो.

8GB RAM

कंप्यूटर और laptop

8GB RAM के साथ आप अपने laptop और कंप्यूटर में हल्के फुल्के कंप्यूटर game कर सकते हो. साथ ही अगर आपको विडियो एडिटिंग भी करनी है. तो वह भी संभव है. लेकिन आपको गेमिंग और विडियो एडिटिंग का इससे भी  अच्छा अनुभव’ लेना हो तो आपको अपने laptop और कंप्यूटर की RAM 16GB तक बढ़ानी होगी.

RAM कितने प्रकार की होती है? (Types of RAM in hindi)

RAM दो प्रकार की होती है:

1.   SRAM

2.   DRAM

DRAM (Dynamic random access memory)

DRAM का full form Dynamic random access memory होता है. DRAM मैमोरी ही हमारे मोबाइल और लैपटॉप में लगे हुई होती है. DRAM मैमोरी में बहुत सारे ट्रांजिस्टर और capacitor (संधारित्र) को एक सिलिकॉन चिप में लगे होते है.

DRAM मैमोरी को SRAM (Static RAM) से सस्ती होती है. और data को इसमें बनाए रखने के लिये इसे बार बार चार्ज करनी की जरूरत होती है. क्योंकि capacitor इसमें उपयोग होता है. जो बार बार डिस्चार्ज हो जाता है.

DRAM मैमोरी के भी विभिन्न संस्करण  है. DRAM1, DRAM2, DRAM3 और DRAM4 ये DRAM मैमोरी के संस्करण उपलब्ध है.

हमारे वैज्ञानिक लगातार इस पर काम कर रहे है की किस प्रकार से RAM की साइज़ और बिजली के खपत को कम करते हुए. उसकी कार्य करने की कुशलता बढ़ा सके. उसी तरह DRAM के संस्करण के नाम रखे हुए है. DRAM4 सबसे उन्नत और नवीन RAM मैमोरी है. 

आज कल हमारे कंप्यूटर और लैपटॉप में DRAM3 और DRAM4 लगी होती है.

SRAM (Static random access memory)

SRAM का full form Static random access memory होता है. SRAM मैमोरी की सरचना DRAM से भी जटिल है. इसमें capacitor नही लगे होते है. SRAM की स्पीड DRAM से कही गुना ज्यादा होती है. SRAM की लागत भी DRAM से ज्यादा होती है.

RAM और ROM  में  क्या  अंतर  है? (What is RAM Vs ROM in Hindi?)

हमने देखा की कंप्यूटर की RAM memory क्या है. कंप्यूटर में मैमोरी मुख्यत  दो भांगो में विभाजित किया गया है..

1.   RAM (Random access memory)

2.   ROM (Read only memory)

RAM Vs ROM 

ROM memory का full form read only memory होता है. ROM कंप्यूटर की वो मैमोरी होती है जो कंप्यूटर सिर्फ पढ़ ही सकता है.  इसी कारण इसी read only और RAM को read and write memory भी कहते है.

RAM की तरह ROM को भी CPU के द्वारा ही access किया जाता है. ROM memory की लागत RAM memory से सस्ती होती है.

ROM मैमोरी के उदहारण CD और पेन ड्राइव है.

दोस्तों हमारी पूरी कोशिश रहती है कि हम आप तक संपूर्ण जानकारी बिल्कुल आसान भाषा में ले के आए. जिससे आपकी पढने में रूचि बनी रहे. मैं उम्मीद करता हुं आपको ये आर्टिकल पढने में मज़ा आया होगा.

दोस्तों अगर आपको ये RAM मैमोरी क्या है (What is RAM in Hindi) आर्टिकल अच्छा लगा है. तो इसे अपने उन सब दोस्तों के पास पहुँचाए जो Competition Exam की तैयारी कर रहे है. नीचे Comment लिख कर बताए. आपको किस Topic पर आसान  भाषा में जानकारी चाहिए. कृपया इसको अपने दोस्तों के साथ Whatapp, Facebook या link share करे.

1 thought on “What is RAM in Hindi? मोबाइल और कंप्यूटर के लिए कितने RAM की जरूरत होती है?”

Leave a Comment