Arth ke aadhar par shabd ke kitne bhed hote hain

अर्थ के आधार पर शब्द कितने भेद के होते हैं? (arth ke aadhar par shabd ke kitne bhed hote hain) – हिंदी व्याकरण में हिंदी भाषा को शुध्द रूप से लिखने और पढने के नियम समाहित हैं. जिस का प्रयोग भाषा को विकसित करता हैं. इस आर्टिकल में हिंदी व्याकरण के महत्वपूर्ण पाठ शब्द और अर्थ के आधार पर शब्द के भेद पर विस्तार से अध्धयन करेगे.

arth-ke-aadhar-par-shabd-ke-kitne-bhed-hote-hain

शब्द किसे कहते हैं?

एक या एक से अधिक वर्णों का वह समूह जिसका कोई न कोई सार्थक अर्थ निकलता हो. उसे शब्द कहते हैं. वर्ण भाषा की मूल इकाई हैं. वर्णों के समूह को ही शब्द कहा जाता हैं.

शब्द को निम्नलिखित प्रकार या भेद में विभाजित किया गया हैं:

  • व्युपत्ति के आधार पर
  • उत्पत्ति के आधार पर
  • प्रयोग के आधार पर
  • अर्थ के आधार पर

अर्थ के आधार पर शब्द कितने भेद के होते हैं? (arth ke aadhar par shabd ke kitne bhed hote hain)

अर्थ के आधार पर शब्द 6 प्रकार के होते है. यह छह भेद निम्न-अनुसार हैं:

  • समरूप भिन्नार्थक या श्रुतिसम भिन्नार्थक
  • अनेक शब्दों के लिए एक शब्द
  • पर्यायवाची शब्द
  • विपरातार्थक शब्द
  • अनेकार्थी शब्द
  • एकार्थक प्रतीत होने वाले शब्द

समरूप भिन्नार्थक या श्रुतिसम भिन्नार्थक

समरूप भिन्नार्थक या श्रुतिसम भिन्नार्थक ऐसे शब्द होते हैं जो पढ़ने और बोलने में तो समान लगते हैं लेकिन इसके अर्थ भिन्न होते हैं.

समरूप भिन्नार्थक या श्रुतिसम भिन्नार्थक के उदाहरण:

  • मेल – एकता
  • मैल – गंदगी

रस के कितने अंग होते हैं? (ras ke kitne ang hote hain) – रस की परिभाषा

विपरातार्थक शब्द या विलोम शब्द

किसी शब्द के अर्थ के विपरीत अर्थ प्रकट करने वाले शब्द विपरातार्थक शब्द या विलोम शब्द कहलाते हैं.

विपरातार्थक शब्द या विलोम शब्द के उदाहरण:

  • लाभ – हानि
  • लेना – देना
  • आना – जाना

पर्यायवाची शब्द

एक से अधिक वह शब्द जो समान अर्थ प्रकट करते हैं. पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं.

व्याकरण के कितने अंग / भेद / प्रकार होते हैं?- vyakaran ke kitne ang hote hain

पर्यायवाची शब्द के उदाहरण:

  • सूर्य – रवि, सूरज, भास्कर, आदित्य.
  • पर्वत – भूधर, पहाड़, शैल, गिरि.
  • पृथ्वी – भू, भूमि, धरा, वसुधा, धरती.
  • ईश्वर – परमात्मा, प्रभु, भगवान, जगदीश.

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द

किसी विशेष समूह का बोध कराने वाले शब्दों को ‘अनेक शब्दों के लिए एक शब्द’ कहा जाता हैं.

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द का उदाहरण:

  • अतिथि: जिनके आने की कोई तिथि नहीं हो.
  • अनादि: जिसका आदि न हो.
  • अजन्मा: जिसका जन्म न हो.

अनेकार्थी शब्द

जिन शब्दों के अनेक शब्द निकलते हैं. उन शब्दों को अनेकार्थी शब्द कहते हैं.

अनेकार्थी शब्द के उदाहरण:

  • कनक : गेहू, सोना, धतुरा इत्यादि.
  • जलज: कमल, शंख, मोती, इत्यादि.
  • कुल: वंश, सब, घर.
  • तप: तपस्या, गरमी, धूप.

Sangya ke kitne bhed /prakar hote hain – Sangya kise kahate hain

एकार्थक प्रतीत होने वाले शब्द

एकार्थक प्रतीत होने वाले शब्द वह शब्द होते हैं जो दिखने में एक दुसरे के पर्यायवाची लगते हैं. लेकिन इसके अर्थ भिन्न होते हैं.

एकार्थक प्रतीत होने वाले शब्द के उदाहरण:

  • अनपढ़ – जो पढ़ा हुआ नहीं हो.
  • अज्ञात – जिसको ज्ञात नहीं हो.
  • पाप – धार्मिक नियमों को तोड़ना.
  • अपराध – कानून के नजर में नियम तोड़ना.

निष्कर्ष

इस आर्टिकल को लिखने का हमारा उद्देश्य पाठक को सरल और आसान भाषा में हिंदी व्याकरण के महत्वपूर्ण भाग शब्द और अर्थ के आधार पर शब्द के भेद के बारे में बताना हैं. वर्णों के समूह को शब्द कहा जाता हैं. प्रत्येक शब्द का कोई न कोई सार्थक अर्थ निकलता हैं.

Leave a Comment