चारमीनार कहाँ स्थित हैं | Information about charminar in hindi

चारमीनार कहाँ स्थित हैं | charminar kahan sthit hai | चारमीनार किस राज्य और शहर में है | information about charminar in hindi  – भारत देश पर अनेक साम्राज्यों ने हजारों सालो तक राज किया हैं. और इन साम्राज्यों के राजाओ और बादशाहो ने अपने इतिहास को जीवित रखने के लिए अनेक ऐतिहासिक और भव्य इमारतो का निर्माण कराया हैं. यह इमारत आज भी हमे राजाओ, सम्राटो और बादशाहों की याद दिलाती हैं. ऐसी ही एक ऐतिहासिक इमारत चारमीनार हैं.

इस आर्टिकल में हम जानेगे की चारमीनार कहाँ स्थित हैं. तथा इस आर्टिकल में हम चारमीनार के निर्माण और इतिहास से जुडी जानकारी भी प्राप्त करेगे.

charminar-kahan-sthit-hai-kis-rajy-shahr-information-history-charminar-in-hindi-1

चारमीनार कहाँ स्थित हैं | charminar kahan sthit hai | चारमीनार किस राज्य और शहर में है

चारमीनार भारत के तेंलगाना राज्य के हैदराबाद शहर में स्थित हैं.

चारमीनार किस राज्य में स्थित हैंतेंलगाना
चारमीनार किस शहर में स्थित हैंहैदराबाद

चारमीनार का पूरा पता क्या हैं?

चारमीनार का पूरा पता:

चारमीनार रोड, चार कमान, घंसी बाजार

हैदराबाद, तेलंगाना – 500002

मिट्टी कितने प्रकार की होती हैं | Mitti kitne prakar ki hoti hai

चारमीनार की जानकारी | information about charminar in hindi

चारमीनार भारत के तेंलगाना राज्य के हैदराबाद शहर में स्थित एक ऐतिहासिक स्मारक और मस्जिद है. जिसका निर्माण सन 1591 सन में हुआ था. चारमीनार पूरे विश्व में हैदराबाद शहर के प्रतीक के रूप में जानी जाती हैं. यह इमारत भारत के सबसे अधिक मान्यता प्राप्त संरचनाओं में गिनी जाती हैं. चार मीनार का इतिहास 400 वर्ष से भी अधिक का है.

इस इमारत के सबसे ऊपरी मंजिल पर एक मस्जिद स्थित है. चारमीनार एक ऐतिहासिक और धार्मिक स्थान है. तथा इस इमारत के आसपास एक लोकप्रिय और प्राचीन स्थानीय बाजार हैं. विभिन्न त्योहार और समारोह के मौके पर जैसे ईद-उल-अधा और ईद-उल-फितर पर चार मीनार इमारत को आकृषित रुप से सजाया जाता है.

काला सोना किसे कहते हैं | कोयला कैसे बनता है – सम्पूर्ण जानकारी

मुसी नदी के पूर्वी तट पर चारमीनार स्थित है. तथा इस ऐतिहासिक इमारत के पश्चिम में लाद बाजार हैं. और दक्षिण-पश्चिम में सबसे समृद्ध ग्रेनानाईट पत्थर से बना मक्का मस्जिद है. इस इमारत को भारत सरकार के ‘भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण’ विभाग के द्वारा पुरातात्विक और वास्तुशिल्प के नमूने के रूप में सूचीबद्ध किया गया है.

चारमीनार शब्द का अर्थ

चारमीनार शब्द दो शब्द चार और मीनार की संधि से बना हैं. चारमीनार एक उर्दू शब्द है. जिसका हिंदी अनुवाद चार स्तंभ होता है.

भारत का सबसे बड़ा बंदरगाह कौन सा हैं | बंदरगाह किसे कहते हैं

चार मीनार का इतिहास | चारमीनार किसने बनवाया था | history of charminar in hindi

चार मीनार का निर्माण क़ुतुब शाही वंश के सुल्तान मोहम्मद कुली कुतुब शाह ने सन 1591 में कराया था. मोहम्मद कुली कुतुब शाह ने गोलकुंडा पर 31 सालों तक राज किया था. तथा वह इब्राहिम कुली कुतुब शाह की तीसरे पुत्र थे.

जब कुतुब शाह ने अपनी राजधानी गोलकुंडा से बदलकर हैदराबाद कर दी थी. तब हैदराबाद को राजधानी बनाने के साथ हैदराबाद शहर की विशेषता और महत्वता को बढ़ाने के लिए चार मीनार का निर्माण कराया था. चार मीनार के निर्माण के पीछे कई प्रकार की कहानियां और कथाएं जुड़ी हुई हैं.

सबसे कठोर धातु कौनसी हैं | हीरा कैसे बनता है

ऐसा भी माना जाता है कि कुतुब शाह ने चारमीनार का निर्माण गोलकुंडा और मछलीपट्टनम के व्यापारिक मार्गो को जोड़ने के लिए कराया था.

चारमीनार की सरचना

भारत की ऐतिहासिक और धार्मिक इमारत चारमीनार का निर्माण ग्रेनाइट, चूना पत्थर और चूर्णित संगमरमर के मिश्रण से हुआ हैं. तथा इस इमारत के चारो कोने पर महराबनुमा शाही पर दरवाजे बने हुए हैं. चारमीनार के प्रत्येक महराबनुमा चार अलग-अलग सड़कों पर खुलते हैं. जिसकी चौड़ाई करीब 11 मीटर है और ऊंचाई 20 मीटर है. इसके साथ ही चारमीनार के प्रत्येक महराबनुमा पर प्राचीन दीवार घड़ी लगी हुई है. इन दीवार घड़ियों को सन 1889 में लाया गया था.

आल इंडिया रेडियो की स्थापना कब हुई थी – विविध भारती की शुरुआत

इस इमारत के प्रत्येक महराबनुमा और गुंबद इस्लामी वास्तुकला की सुंदरता और निर्पुणता को परिभाषित करते हैं. इस ऐतिहासिक इमारत की कुल लंबाई 48 मीटर है. जिसमें दो बालकनिया भी बनी हुई है. इन बालकनियो से शहर का सुंदर दृश्य देखने को मिलता है. इस आकर्षित मीनार के अंदर 149 सीढ़ियां भी हैं. जो घुमावदार आकार लिए हुए हैं.

भाग्यलक्ष्मी का सुंदर मंदिर

चार मीनार के आधार पर एक भाग्यलक्ष्मी का सुंदर मंदिर भी स्थित है. इस मंदिर के अस्तित्व की पहचान हमेशा विवादों में रही है. सन 2012 में ‘द हिंदू अखबार’ के द्वारा एक पुरानी तस्वीर में इस मंदिर का अस्तित्व नहीं होने का दावा किया गया है. द हिंदू अखबार ने तस्वीरों की प्रमाणिकता का उल्लेख करते हुए कहा है कि सन 1957 और 1962 में मिली तस्वीरों में मंदिर के ढ़ाचा तस्वीर में नहीं दीखता है.

इसके अलावा सन 1986 में ली गई तस्वीर में मंदिर का अस्तित्व दिखता है. अतः अखबार के अनुसार मंदिर का ढांचा चारमीनार के जितना पुराना नहीं है. और मंदिर चारमीनार के काफी बाद में बनाया गया है.

प्रयाग प्रशस्ति की रचना किसने की थी | प्रयाग प्रशस्ति क्या है

इस समय हैदराबाद उच्च न्यायालय ने मंदिर के आगे के विस्तार पर रोक लगा दी है. यह मंदिर पर्यटन का केंद्र बिंदु है. तथा जो भी पर्यटन चारमीनार को देखने जाते है वह मंदिर में जरूर जाते हैं.

निष्कर्ष

इस आर्टिकल (चारमीनार कहाँ स्थित हैं | charminar kahan sthit hai | चारमीनार किस राज्य और शहर में है | information about charminar in hindi) को लिखने का हमारा उद्देश्य आपको चारमीनार इमारत के बारे में विस्तार से जानकारी देना हैं. चारमीनार भारत के तेंलगाना राज्य के हैदराबाद शहर में स्थित हैं. चार मीनार का निर्माण क़ुतुब शाही वंश के सुल्तान मोहम्मद कुली कुतुब शाह ने सन 1591 में कराया था. इस आर्टिकल में हमने चारमीनार के इतिहास और सरचना से जुडी जानकारी भी दी हैं.

पारस पत्थर क्या हैं | पारस पत्थर की पहचान क्या है

महानगर क्या हैं | महानगर की संवैधानिक परिभाषा क्या हैं

मच्छर मारने की रासायनिक दवा का नाम क्या हैं – सम्पूर्ण जानकारी

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हैं. यह हमे तभी पता चलेगा जब आप हमे निचे कमेंट करके बताएगे. यह आर्टिकल विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओ की दृष्टी से भी महत्वपूर्ण हैं. इसलिए इस आर्टिकल को उन लोगो और दोस्तों तक पहुचाए जो प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं. क्योंकि ज्ञान बाटने से हमेशा बढ़ता हैं. धन्यवाद.

2 thoughts on “चारमीनार कहाँ स्थित हैं | Information about charminar in hindi”

Leave a Comment

x