What is Machine Learning in Hindi? Supervised and Unsupervised ML?

दोस्तों इस आर्टिकल हम आपको जानकारी देने वाले है Machine Learning  के बारे में. हमने पूरी कोशिश की है कि आपको सरल से सरल भाषा में Machine Learning in Hindi में जानकारी मुहैया कराए.

Machine learning क्या है? (Machine Learning in Hindi)

मशीन लर्निंग एक तकनीक है. जो की Artificial Intelligence का एक भाग है. जिसमे मशीनों को इस प्रकार से सक्षम बनाया जाता है. जिससे वो अपने अनुभवों से decision ले सके. कि उनका अगला step या उनकी प्रतिक्रिया क्या हो सकती है. बिना विशेष निर्दिषित प्रोग्राम के जो उस प्रतिक्रिया को करने के लिये बना हो.

Machine learning को short form में ML भी कहते है.

Artificial intelligence फ़ील्ड बहुत बड़ा है. जिसमे मशीनों को इंसानों की बुदिमता के आकलन पर विकसित किया जाता है. वही Machine learning तकनीक में मशीनें दिए गए डाटा के आधार पर decision लेती है.

या फिर कह सकते है कि AI इस ब्रांच में मशीनें उपलब्ध डाटा को analysis कर, डाटा को फ़िल्टर कर. उसका एक पैटर्न बनाती है. जिसके अनुसार मशीन अपनी प्रतिक्रिया देती है.

Machine learning की जरूरत क्यों है? (Need for Machine Learning in Hindi)

जैसा की हम जानते है Artificial Intelligence में इंटेलीजेंट algorithm लिखे जाती है. इन algorithm में संभवत सारी स्थितियों के अनुसार प्रतिक्रिया step wise step होती है. ये algorithm हर बार पूरी शुद्धता और सतर्कता से लिखना संभव नही हो पाता है. क्योंकि सटीक भविष्यवाणी करना और उस पर प्रातक्रिया लिखना आसान नही होता है.

इसी समस्या को समझे हुए हमारे वैज्ञानिको ने machine learning तकनीक को विकसित किया है, जिससे मशीनें खुद बिना किसी algorithm के सहारा लिये, संभवत सटीक  decision ले पाने में सक्षम हो पाए.

अब आपके मन में ज़रूर से सवाल चल रहा होगा कि अगर machine learning में इंटेलीजेंट algorithm पर आधारित नही है तो किस पर आधारित है?

Machine learning कुछ तरह से data mining टेक्निक पर आधारित है. Data mining का मतलब data की खान जैसे सोने की खान होती है. वैसे ही data की ख़ान. जिस प्रकार सोने की खान को खोद के सोना निकाला जाता है. उसी प्रकार से data की खान को खोद के. उसमे से  उपयुक्त  data को फ़िल्टर कर के, फ़िल्टर data का एक पैटर्न बनाया जाता है. और इस पैटर्न के आधार पर मशीन अपना decision ले पाती है. इस सारे प्रक्रिया को deep learning भी कहते है.

इसका एक उन्नत उदाहरण Google Translations है जो machine learning की deep learning तकनीक पर काम करता है. Google Translations 109 से भी ज्यादा भाषाओं में काम करता है. Google Translations इस समय सबसे सफल Translations टूल है.

किस प्रकार से machine learning का उपयोग ऑनलाइन मार्केटिंग में होता है?

दोस्तों समय के साथ मार्केटिंग करने के तरीके भी बदल गए है. आज के समय में ऑनलाइन मार्केटिंग, physical मार्केटिंग से काफी हद तक सस्ती है. इसी वजह से ऑनलाइन मार्केटिंग की demand बढ़ी है. Online मार्केटिंग से बहुत ही कम निवेश से बहुत ही अच्छे परिणाम प्राप्त किये जा सकते है.

एक उदाहरण से आपको इसे समझाने की कोशिश करते है. जैसे की एक ग्राहक ने आप से दूध और ब्रैड खरीदी है. ये data, जा के आपके कंप्यूटर में सुरक्षित हो जाएगा. अब एक दूसरा ग्राहक आपके पास आता है और आप से दूध और बिस्कुट खरीदते है. ये data भी जा के आपके computer में सुरक्षित हो जाता है. अब कोई तीसरा ग्राहक आता है और आपसे ब्रैड और बिस्कुट खरीदते है. तो आपका कंप्यूटर उसको दूध प्रस्ताव करता है. जिसकी पूरी सम्भावना है कि ग्राहक की जरूरत हो सकती है और ग्राहक ख़रीद ले.

इस तकनीक का उपयोग ऑनलाइन market प्लेटफॉर्म जैसे Flipkart, amazon, Jiomart में किया जाता है. और ज्यादा से ज्यादा बिक्री की जाती है. ये एक उदाहरण है ऐसे कही उदाहरण ऑनलाइन मार्केटिंग में उपयोग में लिये जाते है. जो की machine learning technical पर आधारित है.

चिकित्सा के क्षेत्र में machine learning का क्या प्रभाव है.

वैसे तो machine learning का प्रत्येक क्षेत्र में है. लेकिन आपका चिकित्सा के क्षेत्र में machine learning का प्रभाव समझना जरूरी है.

हम इन्सान अपने अनुभवों से सीखते है. ये अनुभव गलती करने से आते है. जैसा की आपने अपने ऑफ़िस में भी देखा होगा. अनुभव के आधार पर ही स्थान और इज़्ज़त मिलती है. लेकिन मशीन कैसे सीखेगी क्योंकि मशीन तो गलती करती ही नही है. तो मशीनें सीखती है अपने data से.

चिकित्सा के क्षेत्र में machine learning का उपयोग बहुत ही शानदार है. इसको एक उदाहरण  से समझते है. मौजूदा दौर में कही वैज्ञानिक इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे है. कि कोई भी बीमारी अपनी अंतिम स्तर तक पहुचने से पहले ही समझी जाए और उसका उपयुक्त इलाज को सके. जिससे बड़े स्तर पर उससे समस्या नही हो पाए.

एक उदाहरण ले के इसको समझने की कोशिश करते है. अगर किसी को आँखों की समस्या है. और वो doctor के पास इलाज कराने के लिये जाता है. Doctor के द्वारा मरीज़ की high tech मशीनों से’ आँखों की जरूरी जाँच  की जाती है. मशीन उस मरीज़ के data (लक्षण) को ले जा कर अपने data में analysis करती है. मशीन एक पैटर्न बनाती है कि कुछ ऐसे ही लक्षण वाले आँखों के मरीज़ को पहले blindness (अंधापन) हो चुका है.

ये जानकारी मशीन doctor को देती है. और doctor संभवत कोशिश करता है. कि इस बीमारी की गंभीरता कितनी है. इसका उपचार किस प्रकार से करना है. इस तकनीक के उपयोग से किसी को अँधा होने से बचाया जा सकता है. हमे उम्मीद है, भविष्य में इस तकनीक का उपयोग हमारे देश के चिकित्सा जगत में बहुत ही बड़े स्तर पर होगा.

Machine learning कितने प्रकार की होती है? (Type of  machine  learning in Hindi )

Machine learning के प्रकार जानने पहले हम ये जानना होगा कि कितने प्रकार के data होते है. जो machine learning में उपयोग किये जाते है. दो तरीके के data machine learning में उपयोग लिये जाते है. Labeled एंड Unlabeled.

Labeled data

Labeled data वो data के प्रकार है. जो मशीनें आसानी से समझ और पढ़ सकती है. इस के पीछे इंसानों की मेहनत लगती कि जो मशीनों के data को परिभाषित करने में खर्च होती है.

जैसे कोई सिक्के काउंट करने वाली मशीन  है. तो अगर मैंने machine को समझाना कि मेरे पास 1 , 2  और 5  रूपये का सिक्का है. जिसमे 1 रूपये का सिक्का 2 ग्राम का, 2 रूपये का सिक्का 5 ग्राम का, 5 रूपये का सिक्का 10 ग्राम का है.

अब अगर कोई 5  ग्राम को सिक्का आया तो मशीन समझ जाएगी की ये 10 रूपये का सिक्का है. लेकिन इस में मुझे हर चीज़ को मशीन को परिभाषित करना पड़ेगा. और इस काम में ज्यादा मेहनत लगेगी.

Unlabeled data

Unlabeled data वो data के प्रकार है. जो पूरी तरह से परिभाषित नही होता है. या फिर कहे तो 1 या 2 parameter ही परिभाषित होते है. इसमें इंसानी मेहनत कम लगती है लेकिन मशीन खुद इतनी सक्षम होनी चाहिए की data के relation को समझ पाए.

Machine learning के तीन प्रकार होते है:

Supervised learning

Supervised learning, machine learning का वो प्रकार है. जो labered data पर काम करता है. इस प्रकार की machine learning बहुत ही बेसिक टाइप की होती है. इस में data के parameters को पूरी सतकता के साथ परिभाषित करना होता है.

Supervised learning में data के छोटे से भाग को trained किया जाता है. जिसे बड़े स्तर के data पर लागु किया जाता है.

Unsupervised learning

Unsupervised learning, machine learning का वो प्रकार है. जो Unlabered data पर काम करता है. इस प्रकार की machine learning तकनीक में काफी बड़ी मात्रा में data मशीन को देना होता है. तथा algorithm की मदद से मशीन data के parameters के बीच relation को समझता है. और एक पैटर्न तैयार करता है. पैटर्न के आधार पर मशीन प्रतिक्रिया करती है.

इस प्रकार की machine learning में काफी कम इंसानी मेहनत लगती है. Google Translations इसका एक अदभुत उदाहरण है.

Reinforcement learning 

Reinforcement learning, machine learning का वो प्रकार है जिसमे मशीनों को स्थिति के अनुसार प्रतिक्रिया करने के लिये छोड़ दिया जाता है. अगर प्रतिक्रिया उपयुक्त हुई तो Reward मिलता है. अगर नही हुई तो फिर से कोशिश करने के लिये बोला जाता है. जब तक की उपयुक्त प्रतिक्रिया नही मिल जाता है.

जिस प्रकार से इन्सान ग़लतियों से सीखता है. ठीक उसी प्रकार से मशीनों को भी प्रशिक्षण दिया जाता है.

Artificial Intelligence और Machine Learning में अंतर क्या है? (Artificial Intelligence Vs. Machine Learning in Hindi)

सरल भाषा में कहे तो machine learning, Artificial Intelligence का एक भाग है. Artificial Intelligence में मूल रूप से इंसानों की तरह ही कृत्रिम बुदिमता का विकसित किया जाता है.

जबकि machine learning में भी यही होता है. लेकिन machine learning अपने अनुभवों से सीखती है. इसका अर्थ ये है की एक बार उपयोग के लिये लगाने के बाद भी machine learning अपना विकास निरंतर करती रहती है और अपने अन्दर सुधार निरंतर करती रहती है. जो की Artificial Intelligence के बहुत से भागों में नही होता है.

Machine learning के क्या नुकसान भी है?

दोस्तों मेरा मानना है कि हर एक चीज़ के फायदे और नुकसान साथ चलते है. लेकिन ये आपके नज़रिये का कमाल होता है. कि आप क्या देखते है.

जब भूत पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गाँधी  भारत में computer लाने की कोशिश कर रहे थे. तो इस बात के लिये उनको बहुत से लोगो से आलोचना झेलनी पड़ती थी. लेकिन लगातार पांच सालों (1984 to 1989) की कोशिशों के बाद वो सफ़र रहे है.

आज हम जानते है और अनुभव भी करते है. किस प्रकार से computer ने हमारी जिंदगी को प्रभावित किया है. computer ने देश को कितनी नौकरियाँ दी है. हमारे जिंदगी कितनी आसान  बना दी है. तो यही machine learning के साथ भी है. machine learning बहुत से क्षेत्रो में रोज़गार ला सकता है.

machine learning में रोज़गार की संभावनाएँ ?

Machine learning एक विस्तृत क्षेत्र है. इसमें सिर्फ कंप्यूटर codding ही नही लगती है. बल्कि data साइंस, statics और लॉजिकल भी लगता है. ये एक साथ इन सारे क्षेत्रो में सम्भावना ले के आता है.

 ये सच्चाई है की दस में से नौ अमेरिकन अपने दैनिक जीवन में Artificial Intelligence और Machine Learning पर आधारित सेवाएँ उपयोग करते है. अभी ये तकनीक पूरी दुनिया में फैलना बाकी है. तो बहुत सारी सम्भावना है. जब हमारे देश में भी इस स्तर पर ये तकनीक उपयोग की जाएगी हो. रोज़गार के बहुत से अवसर उपलब्ध कराएगी.

जो लोग पहले से ही सूचना प्रौद्योगिकी (Information Technology) के क्षेत्र में है. वो machine learning जैसे स्केल को सीख कर. अपने करियर को ओर ज्यादा ऊंचाई पर पहुंचा सकते है.

दोस्तों हमारी पूरी कोशिश रहती है कि हम आप तक संपूर्ण जानकारी बिल्कुल आसान भाषा में ले के आए. जिससे आपकी पढने में रूचि बनी रहे. मैं उम्मीद करता हुं आपको ये आर्टिकल पढने में मज़ा आया होगा.

दोस्तों अगर आपको ये Machine learning in Hindi आर्टिकल अच्छा लगा है. तो इसे अपने उन सब दोस्तों के पास पहुँचाए जो competition exam की तैयारी कर रहे है. नीचे Comment लिख कर बताए. आपको किस Topic पर आसान  भाषा में जानकारी चाहिए. कृपया इसको अपने दोस्तों के साथ Whatapp, Facebook या link share करे.