What is Motherboard in hindi ( मदरबोर्ड क्या है?)

कंप्यूटर में प्रोसेसर को कंप्यूटर का दिमाग कहा जाता है. वही मदरबोर्ड को कंप्यूटर की रीढ़ की हड्डी भी कहा जाता है. कंप्यूटर के प्रत्येक कार्य के लिए मदरबोर्ड का कार्य अग्रणीय है. तो हम इस आर्टिकल मदरबोर्ड क्या है?(Motherboard in hindi) में जानने वाले है. कि आख़िरकार ये मदरबोर्ड होता क्या है. तथा ये किस प्रकार से कंप्यूटर की कार्य करने में मदद करता है.

अगर आपने कभी भी कंप्यूटर रिपेयर की दुकान देखी होगी तो ज़रुर वहाँ पर बहुत सारे सर्किट बोर्ड देखे होंगे. ये सर्किट बोर्ड मदरबोर्ड के भांग है. इस आर्टिकल में हम ये भी जानेंगे की सर्किट बोर्ड क्या होते है. तथा ये कैसे कार्य करते है.

मदरबोर्ड क्या है? (Motherboard in hindi)

मदरबोर्ड किसी कंप्यूटर का आधार होता है. ये एक प्रिंटेड सर्किट बोर्ड (Printed circuit board) होता है. जो कंप्यूटर के विभिन्न हार्डवेयर उपकरण जैसे CPU, RAM, ROM तथा अन्य उपकरण को आपस में जोड़ने का कार्य करता है. तथा इन उपकरणों के बिच में संचार या वार्तालाप स्थापित करता है.

कंप्यूटर के बोर्ड में मदरबोर्ड सबसे बड़ा इलेक्ट्रिक बोर्ड होता है. मदरबोर्ड में CPU, कीबोर्ड और माउस को नियंत्रण करने के लिए कंट्रोलर भी लगा होता है.

कंप्यूटर आकार और क्षमता के अनुसार विशेष मदरबोर्ड को प्रत्येक कंप्यूटर के लिए अलग से विकसित किया जाता है. सभी कंप्यूटर के मदरबोर्ड आपस में एक जैसे नही होते है. मदरबोर्ड को उसमे लगने वाले रैम और प्रोसेसर के हिसाब से भी बनाना होता है.

मदरबोर्ड के अन्य नाम कोनसे है?

मदरबोर्ड को mnoard, mainboard, mobo, system board और baseboard भी कहा जाता है. एप्पल कंपनी के कंप्यूटर में मदरबोर्ड को लॉजिक बोर्ड (Logic board) कहा जाता है.

सबसे पहला किसने और कब बनाया था?

सबसे प्रथम मदरबोर्ड सन 1981 में IBM कंपनी के द्वारा बनाया गया था. जिसे मदरबोर्ड की जगह Planar नाम दिया गया था.

मदर बोर्ड में प्रिंटेड सर्किट बोर्ड (Printed circuit board) क्या होता है?

एक प्रिंटेड सर्किट बोर्ड में लाखों की संख्या में अर्धचालक, रजिस्टर और अनेक उपकरण होते है. इन्हें आपस में प्रिंटेड सर्किट बोर्ड के जरिये आपस में जोड़ा जाता है. प्रिंटेड सर्किट बोर्ड की सरचना में एक अर्धचालक का समतल प्रष्ट होता है. इस पर कॉपर धातु से विशेष पैटर्न के द्वारा सिग्नल के आवाजाही के लिए रास्ते बनाए होता है. जिससे अनगिनत capacitor, register और अन्य उपकरण आपस में एक दूसरे से जुड़ते है. और सिग्नल को लेते और देते है.

मदरबोर्ड के हिस्से (Parts of motherboard in hindi)

एक मदरबोर्ड में अनगिनत छोटे और बड़े उपकरण लगे होते है. ये उपकरण आपस में मदरबोर्ड के जरिये जोड़ते है. और कंप्यूटर को प्रभावी रूप से कार्य करने के लिए मदद करते है. मदरबोर्ड के कार्य को समझने के लिए हमे मदरबोर्ड के विभिन्न उपकरण को समझना भी जरूरी है. जो इस प्रकार से है.

CPU Socket

CPU socket किसी भी मदरबोर्ड का वो भाग होता है. जहा से CPU या प्रोसेसर को कंप्यूटर से जोड़ा जाता है. विभिन्न CPU के लिए अलग से CPU socket बनाए जाते है. कंप्यूटर के CPU में डाटा प्रोसेस होता है. और कंप्यूटर की क्षमता पूरी तरह से CPU पर ही निर्भर करती है.

BIOS और CMOS

BIOS का पूरा नाम बेसिक इनपुट और आउटपुट सिस्टम (Basic input and output system) होता है. इसमें मदरबोर्ड से जुड़ी जानकारी और सेटिंग सुरक्षित होती है.

CMOS का पूरा नाम Complementary Metal Oxide Semi-Conductor होता है. ये एक प्रकार से एक बायो बैटरी का काम करती है. जब पूरा कंप्यूटर बंद हो जाता है. तो इसके बावजूद भी ये जानकारी संभालने का कार्य करता है. आपने देखा होगा आप जब कंप्यूटर को बंद करके कुछ देर बाद वापस से चालू करते है. तो आपके कंप्यूटर के घड़ी में समय भी बराबर बदलता है. ये CMOS के कारण होता है.

RAM Slot

RAM slot मदरबोर्ड का एक महत्वपूर्ण भाग है. RAM slot के जरिये रैम मेमोरी को कंप्यूटर से जोड़ा जाता है. रैम मैमोरी कंप्यूटर की अस्थाई मैमोरी होती है. इसका मतलब से है कि जब भी आप अपने कंप्यूटर को बंद करते हो. तो रैम मेमोरी भी खाली हो जाती है.

RAM Slot दो प्रकार के होते है.

SIMM (single in-line memory module) – इसका इस्तेमाल 32 बिट बस के लिए किया जाता है.

DIMM (Dual in-line memory module) – इसका इस्तेमाल 64 बिट बस के लिए किया जाता है.

IDE और SATA

IDE का पूरा नाम Integrated Drive Electronics (IDE) होता है. वही SATA का पूरा नाम serial advanced technology attachment (serial ATA, SATA or S-ATA) होता है.

IDE और SATA कनेक्टर दोनों से हार्डडिस्क को मदरबोर्ड से जोड़ा जाता है. जिससे विभिन्न कार्य के लिए कंप्यूटर प्रोसेसर डाटा को प्रोसेस के लिए ले सकता है. साथ जरूरत पूरी होने पर रख भी सकता है. किसी बाहरी स्टोरेज उपकरण जैसे फ्लॉपी और पेनड्राइव को भी IDE या SATA से जोड़ा जाता है.

IDE एक पुरानी तकनीक है. आज के समय में SATA तकनीक का उपयोग हार्डडिस्क को कंप्यूटर से जोड़ने के लिए होता है. SATA तकनीक DTA तकनीक से कही ज्यादा तेज होती है.

Bus

मदरबोर्ड में Bus साधारण सर्किट होते है. जो मदरबोर्ड के उपकरण को आपस में जोड़ता है. bus में एक समय में एक ज्यादा डाटा गमन कर सकते है. तथा bus की स्पीड को megahertz (MHz) की इकाई में तोला जाता है.

Input/outputs slots

विभिन्न प्रकार के हार्डवेयर उपकरण को कंप्यूटर से जोड़ने के लिए विभिन्न Input/output slot का उपयोग किया जाता है. इन input और output slot के पहचान के लिए इसको रंग भी दिया जाता है. सामान्य रूप से ये slot कंप्यूटर के पीछे होते है.

कुछ दैनिक उपयोग के slot और उनके रंग की जानकारी नीचे सारणी में दी गई है.

हार्डवेयर उपकरणकलरSlot का आकार और प्रकार
माइक्रोफोनगुलाबी3.5 mm आकार
स्पीकरगहरा हरा3.5 mm आकार
मॉनिटरसफ़ेद और कालेHDMI और DVI port
कीबोर्डबैंगनीPS/2 Port
माउसहराPS/2 Port
Input/outputs slots

Computer chip-set

ये एक छोटे छोटे सर्किट का समूह होता है. जो कंप्यूटर के विभिन्न उपकरणों के बिच में डाटा के यातायात को नियंत्रित करता है. इन उपकरणों में CPU, रैम मैमोरी, cache तथा अन्य उपकरण शामिल है. इसके अलावा हार्डड्राइव से आने और जाने वाले डाटा को भी प्रबन्धन करता है.

Chip-set दो प्रकार के होते है.

Northbridge chip

Northbridge chip सीधे कंप्यूटर के प्रोसेसर से जुड़ा होता है. और ये कंप्यूटर के high-speed उपकरण जैसे RAM, ग्राफ़िक्स कार्ड से प्रोसेसर के बिच में डाटा के यातायात को नियंत्रित करता है.

Southbridge chip

Southbridge chip ये कंप्यूटर के कम स्पीड के उपकरण जैसे हार्डड्राइव, USB पोर्ट के बिच में डाटा के यातायात को नियंत्रित करता है.

मदरबोर्ड कैसे काम करता है? (How motherboard works in hindi)

मदरबोर्ड खुद अकेला कुछ काम नही करता है. ये सिर्फ एक प्रिंटेड सर्किट मात्र है. ऊपर दिए हुए उपकरण को मदरबोर्ड में लगाया जाता है. तथा मदरबोर्ड इस उपकरणों को आपस में जोड़ता है. जिससे कंप्यूटर के ये सारे उपकरण मिल कर कंप्यूटर को प्रभावी रूप से चलाते है.

मदरबोर्ड के Form factor क्या है? (what is form factor of motherboard in hindi)

Form factor मदरबोर्ड के वो सारे कारण या उपकरण है. जिससे निर्भर करता है कि कोई भी मदरबोर्ड कितना प्रभावीरूप से कार्य करता है.

CPU Socket

मदरबोर्ड के CPU socket के आधार पर कंप्यूटर में प्रोसेसर को लगाया जाता है. तथा इससे ही किसी भी कंप्यूटर की क्षमता निर्धारित की जाती है.

Chipset

Chipset के जरिये मदरबोर्ड में लगे उपकरण आपस में बातचीत को स्थापित करते है. और डाटा के यातायात को chipset के जरिये ही सुचारु रखा जाता है.

real time clock chip

ये मदरबोर्ड के सेटिंग को सुरक्षित रखता है. तथा बिजली नही होने के बावजूद भी कार्य करता है.

BIOS

Basic input/output system (BIOS) कंप्यूटर के सामान्य कार्य करता है. किसी कंप्यूटर में दो BIOS भी होते है. जिसे एक ख़राब होने पर दूसरे का उपयोग किया जाता है.

इसी प्रकार से मदरबोर्ड के कार्य और क्षमता को उसमे लगने वाले उपकरण के माध्यम से निर्धारित किया जाता है.

मेरे कुछ शब्द

इस आर्टिकल को लिखने का हमारा उद्देश्य आपको मदरबोर्ड के बारे में विस्तार से जानकारी देना है. तथा आप मदरबोर्ड की कंप्यूटर के कार्य में भूमिका और महत्व को पूरी तरह से समझ सके. ये आर्टिकल आपको कंप्यूटर के काम करने के तरीके को समझने में मदद करता है.

अगर आप विधार्थी है. और कंप्यूटर की परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे है. तो ये आर्टिकल आपको आपकी परीक्षा में भी मदद करता है.

हमारी पूरी कोशिश रहती है कि हम आप तक संपूर्ण जानकारी बिल्कुल आसान भाषा में ले के आए. जिससे आपकी पढने में रूचि बनी रहे. मैं उम्मीद करता हुं आपको ये आर्टिकल पढने में मज़ा आया होगा.

अगर आपको मदरबोर्ड क्या है?(Motherboard in hindi) आर्टिकल अच्छा लगा है. तो इसे अपने उन सब दोस्तों के पास पहुँचाए जो Competition Exam की तैयारी कर रहे है. नीचे Comment लिख कर बताए. आपको किस Topic पर आसान  भाषा में जानकारी चाहिए. कृपया इसको अपने दोस्तों के साथ Whatapp, Facebook या link share करे.

1 thought on “What is Motherboard in hindi ( मदरबोर्ड क्या है?)”

Leave a Comment