Output device in hindi (आउटपुट उपकरण क्या है? )

कंप्यूटर एक आवश्यक मशीन है. तथा हम हमारे दैनिक कार्य के लिए कंप्यूटर का उपयोग जरुर करते है. लेकिन हमे ये पता है की कंप्यूटर में कोन से उपकरण लगते है. इस आर्टिकल कंप्यूटर आउटपुट उपकरण क्या है? (output device in hindi) में हम कंप्यूटर के सबसे महत्वपूर्ण भाग कंप्यूटर आउटपुट उपकरण के बारे में विस्तार से वर्णन कर रहे. तथा हम ये भी जानेगे की कंप्यूटर आउटपुट उपकरण कैसे कार्य करते है. क्या कंप्यूटर आउटपुट उपकरण के बिना भी चल सकता है.

इसके साथ भी हम विभिन्न कंप्यूटर आउटपुट उपकरण पर प्रकाश डालेगे. और पढेगे की ये क्या काम आते है. और कैसे कार्य करते है.

कंप्यूटर आउटपुट उपकरण क्या है? (What is computer output device in hindi)

कंप्यूटर के आउटपुट उपकरण कंप्यूटर के हार्डवेयर उपकरण के भाग है. जो कंप्यूटर से डाटा को प्राप्त करता है. और उस डाटा को यूजर को दिखता है. इन डाटा में तस्वीर, वीडियो, दस्तावेज़ और ऑडियो हो सकता है.

कंप्यूटर के इनपुट और आउटपुट उपकरण में सबसे बड़ा अंतर यही है. कि इनपुट उपकरण कंप्यूटर को डाटा देता है. वही आउटपुट उपकरण कंप्यूटर से डाटा लेता है. और उसे यूज़र को दिखाता है.

उदाहरण के लिए जब आप कंप्यूटर में टाइपिंग कर रहे होते है. आप की-बोर्ड के जरिये कंप्यूटर को डाटा देते है. तथा उसे समझाते है कि आपको क्या लिखना चाहते है. वही कंप्यूटर का मॉनिटर आपको आपके द्वारा टाइप किये गए अक्षर और नम्बर दिखाता है. यहाँ पर की-बोर्ड कंप्यूटर का इनपुट उपकरण है. और मॉनिटर कंप्यूटर का आउटपुट उपकरण है.

कंप्यूटर को आउटपुट उपकरण की ज़रूरत क्यों है?

कंप्यूटर आउटपुट उपकरण के बिना भी कार्य कर सकता है. लेकिन आउटपुट उपकरण की जरूरत हमे यूजर को है. जिससे हम ये जान सकते है. कि कंप्यूटर क्या कार्य कर रहा है. कंप्यूटर के द्वारा दिए गए परिणाम को समझने के लिए हमे कंप्यूटर के आउटपुट उपकरण की जरूरत होती है.

कंप्यूटर के आउटपुट उपकरण काम कैसे करते है? (How to Output device works in hindi)

कंप्यूटर के आउटपुट उपकरण कंप्यूटर से सिग्नल और डाटा प्राप्त करते है. और उस डाटा को परिवर्तित करते है. जिससे वो डाटा आप आउटपुट उपकरण में देख और सुन सकते हो. यूज़र कंप्यूटर के सिग्नल को आउटपुट उपकरण की मदद से समझ सकता है. कंप्यूटर के आउटपुट उपकरण के काम करने के तरीके को निचे बिन्दुओ में समझाया गया है.

  • यूज़र की-बोर्ड की सहायता से कंप्यूटर को एक अक्षर “H” टाइप करने का इनपुट देता है.
  • ये सिग्नल कंप्यूटर के प्रोफेसर के द्वारा समझा जाता है. और उसे प्रोसेस किया जाता है. और एक आउटपुट सिग्नल विकसित करता है. 
  • प्रोसेसर इस आउटपुट सिग्नल को कंप्यूटर के आउटपुट उपकरण मॉनिटर को भेजता है.
  • कंप्यूटर का मॉनिटर इस सिग्नल प्राप्त करता है. और उसे मॉनिटर में “H” प्रदर्शित करता है.
  • यूज़र अपने जरूरत के हिसाब से इस आउटपुट को प्रिंटर मशीन से प्रिंट भी कर सकता है.

इस प्रकार प्रत्येक आउटपुट सिग्नल को परिवर्तित कर के आउटपुट उपकरण द्वारा यूज़र को समझाया जाता है.

कंप्यूटर आउटपुट उपकरण के प्रकार (Types of output device in hindi)

कंप्यूटर के आउटपुट सिग्नल को आप देख, सुन या पढ़ सकते हो. इसी प्रकार से विभिन्न कंप्यूटर के आउटपुट उपकरण का उपयोग यूज़र अपनी जरूरत के अनुसार करते है. नीचे कंप्यूटर के आउटपुट उपकरण के कुछ उदाहरण दिए गए है.   

मॉनिटर

ये सामान्य प्रत्येक कंप्यूटर में उपयोग होने वाला उपकरण है. ये कंप्यूटर से डाटा प्राप्त करता है. और उसे मॉनिटर की स्क्रीन पर दृश्य बनाकर प्रदर्शित करता है. मॉनिटर विभिन्न आकार और दृश्य गुणवत्ता में आता है.

मॉनिटर पिक्सल की मदद से स्क्रीन पर तस्वीर उभरता है. तथा किसी भी मॉनिटर की गुणवत्ता उसके एक घन क्षेत्र में मौजूद पिक्सल की संख्या पर निर्भर करती है. सामान्य रूप से किसी भी मॉनिटर में दो प्रकार की तकनीक का उपयोग होता है. जो इस प्रकार से है.

कैथोड रे ट्यूब (CRT)

इसमें स्क्रीन पर तस्वीर बनाने के लिए कैथोड रे ट्यूब का उपयोग किया जाता है. तथा इस प्रकार के मॉनिटर आकार में बड़े होते है. वजन में भी इस प्रकार के मॉनिटर भारी होते है.

फ्लैट स्क्रीन (Flat screen)

इस प्रकार के मॉनिटर में लाइट एमितेद डायोड (LED) या लिक्विड क्रिस्टल डायोड (LCD) तकनीक के माध्यम से तस्वीर को स्क्रीन में बनाया जाता है. ये मॉनिटर आकार में बड़े और वजन में हल्के होते है.

प्रिंटर

प्रिंटर कंप्यूटर के आउटपुट डाटा का उपयोग करके कागज पर तस्वीर या दस्तावेज़ छापता है. प्रिंटर के द्वारा प्राप्त दस्तावेज़ और तस्वीर को हार्ड-कॉपी कहा जाता है.

प्रिंटर तीन प्रकार के होते है.

डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर (dot matrix printer) – इसमें डॉट की मदद से तस्वीर को बनाया जाता है. तथा तस्वीर की गुणवत्ता प्रत्येक घन क्षेत्र में स्थित डॉट की संख्या पर निर्भर करती है.

इंक जेट (ink jet) – इस प्रकार के प्रिंटर में तस्वीर को बनाने के लिए स्याही के डॉट को प्रष्ट पर लगाया जाता है.

laser printer (लेज़र प्रिंटर) – इस प्रकार के प्रिंटर में लेज़र तकनीक का उपयोग तस्वीर को बनाने में होता है. HP कंपनी का HP LaserJet प्रिंटर इसका एक अच्छा उदाहरण है.

स्पीकर

स्पीकर कंप्यूटर के ऑडियो सिग्नल के लिए उपयोग होता है. तथा ये ऑडियो को बढ़ा या कम कर सकता है. अगर आप को ज्यादा आवाज में गाने सुनना पसंद है. तो ये कंप्यूटर स्पीकर से संभव है. सबसे पहले सन 1981 में IBM कंपनी ने स्पीकर का आविष्कार किया था.

हेडफ़ोन

हेडफ़ोन में स्पीकर और माइक दोनों होते है. ये एक व्यक्ति के उपयोग करने के लिए विकसित किया गया है. आप हैडफ़ोन का उपयोग कर के कंप्यूटर से वीडियो मीटिंग कर सकते हो. क्योंकि ये आवाज को बहुत साफ और शोर को शुद्ध करके लेता है.

प्रोजेक्टर

प्रोजेक्टर कंप्यूटर में स्थित वीडियो और तस्वीर को आकार में बड़ा करता है. और उन्हें दीवार या वाइट बोर्ड पर दिखाता है. ये सामान्य रूप से विधालयो और कॉलेज में लेक्चर और प्रेजेंटेशन देने के लिए उपयोग होता है.

GPS

GPS का पूरा नाम ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम है. इसकी मदद से यूज़र अपनी या किसी और वस्तु की स्थिति को नक्शे में देख सकता है. इसका उपयोग गूगल मैप में किया जाता है. तथा ये एक किसी अंजान जगह पर बहुत उपयोगी सुविधा है. ये रेडियो फ्रीक्वेंसी तरंग तकनीक का उपयोग करता है.

मेरे कुछ शब्द

इस आर्टिकल को लिखने का हमारा उद्देश्य आपको कंप्यूटर के महत्वपूर्ण भाग कंप्यूटर हार्ड वेयर के बारे में विस्तार से जानकारी देना है. अगर आप विधार्थी है. और कंप्यूटर के परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे है. तो ये आर्टिकल आपको आपकी परीक्षा में भी मदद करता है. वही आप कंप्यूटर के लिए नए है. तो ये आपके ज्ञान में बढ़ोतरी करता है.

हमारी पूरी कोशिश रहती है कि हम आप तक संपूर्ण जानकारी बिल्कुल आसान भाषा में ले के आए. जिससे आपकी पढने में रूचि बनी रहे. मैं उम्मीद करता हुं आपको ये आर्टिकल पढने में मज़ा आया होगा.

अगर आपको ये कंप्यूटर आउटपुट उपकरण क्या है? output device in hindi) आर्टिकल अच्छा लगा है. तो इसे अपने उन सब दोस्तों के पास पहुँचाए जो Competition Exam की तैयारी कर रहे है. नीचे Comment लिख कर बताए. आपको किस Topic पर आसान  भाषा में जानकारी चाहिए. कृपया इसको अपने दोस्तों के साथ Whatapp, Facebook या link share करे.

Leave a Comment