सफेद सोना किसे कहते हैं – प्लैटिनम के अन्य उपयोग

सफेद सोना किसे कहते हैं – पृथ्वी पर विभिन्न प्रकार के धातु विधमान हैं. जिसमे से किसी धातु के गुण बोध हमे ज्ञात हैं. और बहुत से ऐसे धातु भी हैं जो अभी तक अज्ञात हैं. मनुष्य अपने सुविधा के अनुसार इस धातुओ को विभिन्न कार्य के लिए प्रयोग करता हैं. इस आर्टिकल में हम ऐसे ही विशेष धातु प्लैटिनम के बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले हैं. इस आर्टिकल में हम बताएगे की प्लैटिनम को सफ़ेद सोना क्यों कहा जाता हैं.

safed-sona-kise-kahte-hain-platinum-jankari

सफेद सोना किसे कहते हैं?

प्लैटिनम धातु को सफ़ेद सोना कहा जाता हैं. क्योंकि प्लैटिनम चादी की तरह ही सफ़ेद होता हैं. तथा इस धातु की चमक सोने और चादी जैसे महंगे धातु के समान ही होती हैं.

हड़प्पा किस नदी के किनारे स्थित हैं – रावी नदी का प्राचीन नाम

प्लैटिनम का इतिहास

प्लैटिनम काफी समय से ज्ञात धातु हैं. सबसे पहले 1741 में चार्ल्स वुड ने यूरोप में प्लैटिनम लाए थे. सन 1750 में ब्राउनरिज ने प्लैटिनम पर पूर्ण विवरण के साथ शोध पत्र प्रकाशित किया था. उनके बाद सन 1876 में प्लैटिनम धातु को एक महंगी धातु की जगह मिली थी. यह धातु मुख्य रूप से रूस, कोलम्बिया और दक्षिण अफ्रीका में पाया जाता हैं.

प्लैटिनम धातु के गुण

प्लैटिनम धातु सोना और चादी धातु के बाद सबसे आघातवर्धनीय धातु हैं. इसी कारन प्लैटिनम को महंगे धातु में गिना जाता हैं. सोने और चादी के साथ प्लैटिनम के भी गहने बनाए जाते हैं. प्लैटिनम धातु कांच के साथ आसानी से घुल जाता हैं.

sansadhan kise kahate hain – संसाधन कितने प्रकार के होते हैं

प्लैटिनम के अन्य उपयोग

महंगे गहने बनाने के साथ अन्य विभिन्न तरीको से भी प्लैटिनम का उपयोग किया जाता हैं. प्लैटिनम धातु के कुछ उपयोग निम्नलिखित हैं:

विद्युत उपकरण बनाने में

प्लैटिनम वातावरण में उपस्थित ऑक्सीजन के प्रति उदासीन रहता हैं. अर्थात यह धातु आक्सीजन के साथ कोई भी प्रतिक्रिया नहीं देता हैं. इसके साथ ही कांच के साथ आसानी से घुल जाता हैं. प्लैटिनम के इन सब गुणों के कारन इस धातु का उपयोग इलेक्ट्रोड और विद्युत सेल बनाने में किया जाता हैं.

दांतों के इलाज में

प्लैटिनम की भूमिका दांतों के इलाज में महत्वपूर्ण हैं. प्लैटिनम का उपयोग लेड के साथ दांतों के छेद भरने के लिए किया जाता हैं. इसके साथ ही टेड़े-मेडे दांतों को व्यवस्थित करने के लिए डॉक्टर दांतों पर तार लगाते हैं. इस तार के निर्माण में प्लैटिनम धातु का उपयोग किया जाता हैं.

प्रयोगशाला में

प्लैटिनम धातु एक विशेष गुण का धातु हैं. प्लैटिनम ज्यादातर धातुओ के साथ प्रतिक्रिया नहीं करता हैं. इसके इस गुण के कारन इसका उपयोग प्रयोगशाला में किया जाता हैं. शुष्क परिक्षण जैसे ज्वाला परिक्षण और बोरेक्स परिक्षण के लिए प्लैटिनम के तार का प्रयोग किया जाता हैं.

प्रयोगशाला के उपकरण बनाने में

चूँकि प्लैटिनम विभिन्न धातु के साथ निष्क्रिय हैं. अंत इसका उपयोग प्रयोगशाला में उपयोग होने वाले विभिन्न उपकरण जैसे तस्करी, क्रुसिबल इत्यादि बनाने में होता हैं.

Ramanand ke shishya kaun the – स्वामी रामानंद के शिष्य कौन थे-उनके नाम

निष्कर्ष

इस आर्टिकल (सफेद सोना किसे कहते हैं) में हमने प्लैटिनम धातु के बारे में विस्तार से बताया हैं. प्लैटिनम की रासायनिक विशेषताओ के कारन इसे महंगे धातु में गिना जाता हैं. प्लैटिनम चादी की भांति सफ़ेद और चमकदार होता हैं. इसी कारन इसे सफ़ेद सोना भी कहा जाता हैं.

सबसे हल्की गैस कौनसी हैं – सम्पूर्ण जानकारी

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हैं. यह हमे तभी पता चलेगा जब आप हमे निचे कमेंट करके बताएगे. यह आर्टिकल विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओ की दृष्टी से भी महत्वपूर्ण हैं. इसलिए इस आर्टिकल को उन लोगो और दोस्तों तक पहुचाए जो प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं. क्योंकि ज्ञान बाटने से हमेशा बढ़ता हैं. धन्यवाद.

3 thoughts on “सफेद सोना किसे कहते हैं – प्लैटिनम के अन्य उपयोग”

Leave a Comment

x