swarg kise kahate hain | स्वर्ग किसे कहते हैं?

अनुक्रम

swarg kise kahate hain – स्वर्ग किसे कहते हैं

swarg kise kahate hain – स्वर्ग किसे कहते हैं -स्वर्ग और नर्क – हिन्दू धर्म के मानने वाले लोगो ने स्वर्ग और नर्क के बारे में जरुर सुना होता हैं. और कही विध्द्वानो से इसके विषय में बात भी जरुर की होगी. हमारे समाज में बहुत से लोगो का यह विश्वास हैं की कही आसमान में स्वर्ग जरुर हैं. और एक नर्क भी हैं. जो लोग पुण्य करते हैं वह स्वर्ग में जाते हैं. और जो लोग पाप करते हैं. या फिर पुण्य नहीं करते हैं. वह लोग नर्क में जाते हैं.

पाप और पुण्य का यह लेखा जोखा पूरी जिन्दगी भर चलता रहता हैं. बहुत से लोग स्वर्ग की लालचा में मंदिर, धर्मशाला, और गौशाला बनाते हैं.  हमारे समाज में लोग स्वर्ग और पुण्य की लालचा में गंगा में स्नान करते हैं. और पूजा, पाठ, हवन, यज्ञ इत्यादि कराते हैं. लोगों को विश्वास हैं की पुण्य करने पर मरने के बाद उन्हें स्वर्ग में जगह जरुर मिलेगी. अन्यथा उन्हें नर्क में सड़ना पड़ेगा. हमारे समाज में कोई भी व्यक्ति अपने लिए नर्क की अभिलाषा नहीं रखता हैं.

swarg-kise-kahate-hain-swarg-nrak-1-compressed

हमारे धर्म की पुराणों में भी स्वर्ग के बारे में उल्लेख हैं. स्वर्ग के देवता इंद्र हैं. इंद्र सभी देवतओं में प्रमुख हैं. हिन्दू धर्म में विष्णु पुराण के अनुसार सूर्य और ध्रुव के बिच में 14 लाख योजना का अन्तराल हैं. इस अन्तराल में स्वर्ग लोक हैं. स्वर्ग लोक की भव्यता का भी उल्लेख हैं. स्वर्ग लोक में पुण्य प्राप्त आत्माए रहती हैं. और पुण्य प्राप्त आत्माओ की सेवा में स्वर्ग लोक में अनेक सुविधाए होती हैं. पुराणों में उल्लेख हैं की कैलाश पर्वत के ऊपर स्वर्ग हैं. और कैलाश पर्वत के निचे नर्क या पाताललोक हैं.

समय के अनुसार लोगो की मान्यता भी बदलती रहती हैं. आज कल के पढ़े-लिखे नौजवानों को अगर यह बात बोली जाए. तो उन्हें भ्रम लगती हैं. शिक्षित लोग इन बातों में विश्वास नहीं करते हैं की कही आसमान में स्वर्ग उपस्थित हैं. उनका मानना हैं की पुण्य करने से कुछ नहीं होता हैं. सब कर्म का फल होता हैं. कर्म को अंग्रेजी कर्मा (Karma) बोला जाता हैं.

आज कल के नए जमाने और विचारों के लोग कर्म के सिध्दांत को मानते हैं. जिसे अंग्रेजी में कर्मा थ्योरी (theory of karma) भी कहते हैं. इसके अनुसार इन्सान जैसे कर्म करता हैं. वैसा ही फल इन्सान को इसी जन्म मिल जाता हैं. इस सिध्दांत के अनुसार अगर आप किसी व्यक्ति का अच्छा करोंगे. तो आपके साथ भी अच्छा होगा. और अगर आप किसी के साथ गलत करोंगे. तो आप के साथ भी गलत होगा.

इस सिध्दांत के अनुसार इन्सान को अपने बुरे कर्म का फल इसी जन्म में मिल जाता हैं. इसके लिए मरने तक का इंतजार नहीं करना होता हैं. इसके लिए विभिन्न वास्वविक लोगो के उदाहरण भी दिए जाते हैं. जिससे आप भी इस सिध्दांत के बारे में सोच सके. मानना या नहीं मानना सबका अपना विकल्प हैं. लेकिन एक बात तो सही हैं की हमे अपने जीवन में हमेशा सबके बारे में अच्छा ही सोचना चाहिए. और अपने बर्ताव को भी अच्छा रखना चाहिए.

swarg-kise-kahate-hain-swarg-nrak-compressed

अगर हम आपको स्वर्ग के जीवन के बारे में बताए. तो आपको जानकर ख़ुशी होगी की स्वर्ग सुख का धाम होता हैं. स्वर्ग में किसी भी प्रकार का दुःख और दर्द नहीं होता हैं. मनुष्य अपनी सारी इच्छाए स्वर्ग में आकर पूरी कर सकता हैं. स्वर्ग में कोई बीमार नही पड़ता हैं. स्वर्ग में किसी भी प्रकार की चिंता आपको परेशान नहीं कर सकती हैं. क्योंकि चिंता का स्वर्ग में कोई जगह ही नहीं हैं. स्वर्ग को प्राप्त कर आत्मा आनंदमय हो जाती हैं. आत्मा को परमात्मा की प्राप्ति हो जाती हैं. स्वर्ग के आनंद के बारे में जितना वर्णन किया जाए. उतना कम होता हैं.

ये भी जाने

राम रक्षा स्तोत्र PDF Download करे | लिंक पर क्लिक करे

16 Somvar Vrat Katha Vidhi in HINDI PDF Free

शिव चालीस पढ़ने और पाठ करने के नियम और पूरी विधि

Ganesh atharvashirsha mantra /stotra in hindi pdf download

कात्यायनी मंत्र जप संख्या – माँ कात्यायनी मन्त्र – पूजा करने की विधि

1 thought on “swarg kise kahate hain | स्वर्ग किसे कहते हैं?”

Leave a Comment

x